हरियाणा में 9 शहरों तक पहुंची हिंसक आरक्षण आन्दोलन की आंच, सेना ने संभाला मोर्चा

author image
Updated on 11 Jul, 2016 at 3:41 pm

Advertisement

हरियाणा में आरक्षण की मांग कर रहे जाट समुदाय का हिंसक आन्दोलन 9 अलग-अलग शहर तक पहुंच गया है। आन्दोलन की वजह से हालात बिगड़ गए हैं और आम जन-जीवन बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। पूरे राज्य में धारा 144 लागू कर दी गई है।

हिन्दुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, क्षेत्र में हालात इतने खराब हैं कि सेना के जवानों को हेलिकॉप्टर के जरिए रोहतक पुलिस लाइन्स तक पहुंचाया गया। NDTV की रिपोर्ट के मुताबिक,  यहां सेना ने मोर्चा संभाल लिया है।

रोहतक में अब तक तीन लोग मारे जा चुके हैं, जबकि 60 से अधिक घायल हुए हैं। सेना ने जींद, हिसार, पानीपत, सोनीपत, कैथल, झज्जर, रोहतक और भिवानी में भी मोर्चा संभाल लिया है।

वहीं, शनिवार तड़के उग्र प्रदर्शनकारियों ने कैथल से भाजपा सांसद के आवास पर हमला कर दिया। हिंसा से प्रभावित क्षेत्रों में देखते ही गोली मारने के आदेश जारी किए गए हैं।

आन्दोलनकारियों ने कई स्थानों पर रेलवे यातायात रोक दिया है और इस वजह से 550 ट्रेनें प्रभावित हुई हैं और 1500 बसों को जगह-जगह रोक दिया गया है।

इस बीच, केन्द्र सरकार हरियाणा के हालात पर नजर रखे हुए है। शुक्रवार को गृह मंत्री राजनाथ सिंह के आवास पर हुई उच्च-स्तरीय बैठक में मनोहर पर्रिकर, सुषमा स्वराज, अरुण जेटली और अजीत डोभाल शामिल हुए।



गौरतलब है कि अगले सप्ताह संसद का बजट सत्र शुरू हो रहा है और सरकार चाहती है कि जल्दी शांति बहाली की जाए।

हरियाणा में उपजे हालात की वजह से अब तक करीब 200 करोड़ रुपए का नुकसान हो चुका है।

इस बीच, एक रिपोर्ट में कहा गया है कि रोहतक में एक निजी आर्म्स की दुकान से प्रदर्शनकारियों ने बन्दूकें और कारतूस लूट लिए।

राजनाथ सिंह ने सीएम मनोहर लाल खट्टर से बात भी की। खट्टर ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को फोन कर हालात की पूरी जानकारी दी।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement