एक महिला की जान बचाने के लिए इन सिख भाइयों ने उतार दी अपनी पगड़ी, नहर में उतरकर बचाई जान

author image
Updated on 19 Oct, 2016 at 3:29 pm

Advertisement

अगर कोई मुसीबत में हो, उसकी जान पर बन आई हो तो उसे बचाने के प्रयास के लिए आपको तुरंत ही निर्णय लेना होता है। ऐसे में कभी ऐसी परिस्थितियां आ जाती है जिसमें किसी इंसान को कई युगों से चली आ रही धार्मिक मान्यतायों और किसी की जिंदगी को बचाने की इच्छा के बीच एक का चुनाव करना होता है।

इसी कड़ी में जो मिसाल राजस्थान के हनुमानगढ़ के दो सिख भाइयों ने पेश की है वो वाकई काबिलेतारीफ है। इन दोनों भाइयों ने धार्मिक मान्यताओं को तोड़ते हुए अपनी पगड़ी उतारकर एक डूबती महिला की जान बचाई।

sikh inside image


Advertisement

घटना उस वक्त की है जब गुरदीप मान अपने बड़े भाई भादर मान के साथ बाजार जा रहे थे तभी उन्होंने सादुल ब्रांच इलाके के पास एक महिला को नहर में छलांग लगाते देखा। उन्होंने उस महिला को आवाज लगाई लेकिन इसके बावजूद वो नहर में कूद गई।

तुरंत ही हरकत में आते हुए दोनों भाइयों ने अपनी पगड़ी उतारी और साथ ही आसपास के लोग वहां आ गए, तब पगड़ी के सहारे दोनों भाई नहर में उतर गए।

महिला को नहर से बाहर लाया गया, जिसके बाद उसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया और इस घटना की जानकारी पुलिस को दे दी गई। जांच में सामने आया कि महिला कई दिनों से अपने मायके ठहरी हुई थी जिसकी दो शादियां हो चुकी हैं।

महिला को बचाने वाले भादर मान कहते हैं कि पगड़ी से ज्यादा जरूरी महिला की जान थी। जरा सी देरी की चूक से महिला की जान जा सकती थी। आपको बता दे कि सिख धर्म में पगड़ी सिर्फ घर पर और नहाते वक्त उतारी जा सकती है। सिख लोग अपने बालों को सार्वजनिक रूप से दिखाना अनुचित मानते हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement