6 अनोखे आपराधिक मामले जिन्होंने पूरे देश को हिला दिया

Updated on 17 Feb, 2018 at 11:16 am

Advertisement

भारत की जिला अदालतों में हर दिन करीब 4-5 लाख मामले आते हैं और इनमें बहुत से मामले सामान्य से अलग और अनोखे होते हैं, जो लोगों का ध्यान आकर्षित करते हैं। कुछ ऐसे ही आपराधिक मामलों के बारे में चलिए आपको बताते हैं। जब ये केस सामने आए, तो इसने पूरे देश को हिलाकर रख दिया।

कमांडर नानावती केस

 

आपको अक्षय कुमार की फिल्म रुस्तम तो याद होगी ही। यह फिल्म असली घटना से प्रेरित थी। नेवी कमांडर नानावती अपनी पत्नी के प्रेमी को मार देता है, लेकिन हैरानी की बात ये है कि हत्या के बाद भी लोगों को वह अपराधी नज़र नहीं आता। नानावती केस के लिए एक जूरी बनाई जाती है जो ये देखती है कि मर्डर जुनून में किया गया था या फिर ये पूर्व नियोजित हत्या थी। जूरी सभी हालातों व गवाहों का मुआयना करने के बाद नानवती को दोषी नहीं मानती और उन्हें रिहा कर देती है, लेकिन बाद में बॉम्बे हाईकोर्ट तथ्य और सूबूतों के आधार पर जूरी के इस फैसले को खारिज कर देता है।

साइनाइड मल्लिका- पहली महिला सीरियल किलर

 

आपको ये जानकर हैरानी होगी की भगवान के नाम पर महिलाओं को बेवकूफ बनाकर यह महिला उन्हें मार डालती थी। साइनाइड मल्लिका का असली नाम के डी केम्पम्मा है और वह बेंगलुरू की रहने वाली है। इसे देश की पहली सीरियल किलर माना जाता है। उसने 6 महिलाओं को प्रसाद या फिर पानी में साइनाइड मिलाकर खिला दिया। सबसे पहले वह मंदिर के आसपास महिलाओं को खोजती थी और जो महिला परेशान दिखती उसे पूजा-पाठ के नाम पर अपने जाल में फंसाती थी। फिर महिलाओं को गहने पहनकर मंदिर बुलाती और उन्हें साइनाइड खिलाकर मार डालती थी। दिल दहला देने वाली ये वारदात जब सामने आई, तो पूरा देश हिल गया। वर्ष 2010 में इसे मौत की सजा दी गई थी, लेकिन 2012 में इसे बदलकर आजीवन कारावस कर दिया गया।

चार्ल्स शोभराज- बिकिनी किलर

 


Advertisement

चार्ल्स शोभराज को अब तक का सबसे गुड लुकिंग सिरियल किलर माना जाता है। अपने लुक और स्मार्टनेस का फायदा उठाकर ही अपनी शिकार महिलाओं को जाल में फंसाता और बाद में उनका मर्डर कर देता था। फिर उनकी लाश को जलाकर डुबो देता था। वह सुंदर विदेशी महिलाओं की तरफ तुरंत मोहित हो जाता था, इसलिए उसे बिकनी किलर नाम दिया गया। गिरफ्तारी के पहले तक वो 24 महिला पर्यटकों की हत्या कर चुका था।

नीतीश कटारा- ऑनर किलिंग

दिल्ली का नीतीश कटारा हत्याकांड भी कई सालों तक मीडिया की सुर्खियों में रहा। यह ऑनर किलिंग का मामला था। नीतीश राजनेता डीपी यादव की बेटी से प्यार करता था और यही उसकी मौत का कारण बन गया। दबंग राजनेता डीपी यादव के बेटे विकास यादव ने नीतीश को कई बार बहन भारती से दूर रहने की धमकी दी, लेकिन नीतीश नहीं माने, तो आखिरकार उसकी हत्या कर दी। नीतीश का शव हाईवे के पास जली हुई अवस्था में मिला था। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार नीतीश को विकास और विशाल यादव अपने साथ कार में ले गए थें और उसके बाद नीतीश कभी नज़र नहीं आए।

निठारी- नरकंकाल केस

 

निठारी कांड के सामने आने के बाद मीडिया से लेकर आम इंसान तक सब सहम गए थे, कोई इंसान इतनी दरिंदगी कर सकता है विश्वास नहीं होता। मोहिंदर सिंह पंढेर के नौकर सुरेंद्र सिंह कोहली पर रेप, हत्या और मानव अंगों की तस्करी का आरोप है। 2006 में मोहिंदर पंढेर और सुरेंद्र कोहली को उस वक्त गिरफ्तार किया गया जब निठारी गांव से लापता बच्चों की खोपड़ी नाले में मिली और पड़ोसियों ने उनके घर से अजीब से बदूब आने की भी शिकायत की। दोनों को दोषी पाया गया। अब वे जेल में हैं।

आरुषि तलवार- रहस्मयी मौत

 

यह केस जांच एंजेंसियों की लापरवाही का सबसे अच्छा उदाहरण है। 14 वर्षीय आरूषी का उसी के कमरे में मर्डर हो जाता है। साथ ही घर के नौकर हेमराज का शव भी बरामद होता है और हत्या का आरोप आरुषि के माता-पिता पर लगता है। अपने आप में यह अविश्वसनीय लगता है, मगर ऐसा ही हुआ। लंबी जांच के बाद भी सच सामने नहीं आ पाया। अपनी ही बेटी के मर्डर में कई साल जेल में बिताने के बाद तलवार दंपत्ति फिलहाल रिहा हो चुके हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement