अरुणाचल प्रदेश में 42 विधायकों के साथ सीएम ने कहा कांग्रेस पार्टी को बाय-बाय

author image
Updated on 16 Sep, 2016 at 6:38 pm

Advertisement

अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस पार्टी को बड़ा झटका लगा है। दरअसल, राज्य के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने 42 विधायकों के साथ कांग्रेस पार्टी छोड़ने का ऐलान कर दिया है। ये सभी विधायक अब भारतीय जनता पार्टी के समर्थन वाले पीपीए के साथ आ गए हैं।

गौरतलब है कि अरुणाचल में 60 सदस्यों वाली विधानसभा में कांग्रेस पार्टी के अब तक 46 विधायक थे, जबकि 11 विधायक भाजपा के हैं।


Advertisement

इस बात की जानकारी देते हुए खांडू ने कहाः

“मैंने विधानसभा अध्यक्ष से मुलाकात करके उन्हें यह सूचना दी है कि हमने कांग्रेस का पीपीए में विलय कर दिया है। राज्य में कांग्रेस के 46 विधायक हैं, जिनमें से 43 इस पार्टी में शामिल हो गए हैं।”

अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस पार्टी लंबे समय से संकट का सामना कर रही है। पिछले जुलाई महीने में सुप्रीम कोर्ट का फैसला कांग्रेस के पक्ष में आने पर नबाम तुकी को मुख्यमंत्री पद से हटना पड़ा था और उनके स्थान पर पेमा खांडू मुख्यमंत्री बने थे।

43 विधायकों के पीपीए में चले जाने के बाद कांग्रेस पार्टी में पूर्व मुख्यमंत्री नबाम तुकी और इक्का-दुक्का विधायक ही बचे रह गए हैं। हाल ही में दिवंगत हुए पूर्व मुख्यमंत्री कलिखो पुल फरवरी 2016 में उन्होंने 24 कांग्रेसी विधायकों के साथ पीपीए में शामिल हो गए थे।

इसके बाद सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया था, जिसमें अदालत ने कलिखो पुल सरकार को असंवैधानिक घोषित कर पूर्व की कांग्रेस सरकार को बहाल करने का आदेश दिया था।

इसके बाद पेमा खांडू के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार बनी थी। अब एक बार फिर लग रहा है कि बाजी भारतीय जनता पार्टी के हाथ में जाएगी।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement