शोएब अख्तर ने सलमान की रिहाई को कश्मीर की आजादी से जोड़ा, लोगों ने लगाई लताड़

author image
Updated on 8 Apr, 2018 at 4:35 pm

Advertisement

पाकिस्तानी क्रिकेट खिलाड़ी आजकल कश्मीर मुद्दे का कुछ ज्यादा ही राग अलाप रहे हैं। पहले पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी फिर उसके बाद क्रिकेटर से नेता बने इमरान खान और अब इस लिस्ट में एक और खिलाड़ी कूद पड़ा है।

 

रावलपिंडी एक्सप्रेस के नाम से मशहूर शोएब अख्तर ने भी कश्मीर को लेकर बयान दिया है।

 

 

अख्तर  ने सलमान खान की जमानत के बहाने कश्मीर का मुद्दा छेड़ा। उन्होंने ट्वीट कर लिखाः

 

“आखिरकार, सलमान को माननीय अदालत से राहत मिल गई है। उम्मीद है कि मुझे अपने जीवनकाल में एक दिन कश्मीर, फिलिस्तीन, यमन, अफगानिस्तान सहित दुनिया के सभी परेशान क्षेत्रों के आजाद होने की खबर मिलेगी। मेरा दिल मानवता और निर्दोषों की जान जाने पर दुखता है।”

 

 

उनके ये ट्वीट करते ही लोगों ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया। फिर बढ़ते विवाद को देखकर उन्होंने  अपना ये ट्वीट डिलीट कर दिया।

 

इसके बाद उन्होंने एक और ट्वीट कर भारत-पाकिस्तान के युवाओं से दोनों देशों के बीच शान्ति कैसे बनाई जाए इस पर कार्य करने कि गुजारिश की।

उन्होंने लिखा कि दोनों देशों के युवाओं को भारत और पाकिस्तान के संबंधों के लिए खड़ा होना चाहिए और अधिकारियों से पूछना चाहिए कि आखिर क्यों 70 साल पुराने मसले का अभी तक समाधान नहीं हो पाया है। उन्होंने लिखा:

 

”दोनों पक्षों के युवाओं को भारत और पाक संबंधों के लिए खड़े होने की जरूरत है और अधिकारियों को एक सही और मुश्किल सवाल पूछने की जरूरत है कि हम पिछले 70 वर्षों से हमारे लंबित मुद्दों को सुलझाने में सक्षम क्यों नहीं हैं, मैं पूछता हूं कि आप इस नफरत के साथ अपने जीवन के अगले 70 साल जीने के लिए तैयार हैं।”

 

 

बाद में अख्तर ने इस मसले पर फिर से ट्वीट करते हुए वही पुराना राग दोहराया, जो पाकिस्तान के राजनेता कई बार कह चुके है। अख्तर ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के दिशानिर्देशों के अनुसार, दोनों मुल्कों की हुकूमत को इस मसले पर आपस में बातचीत करते हुए सुलझाने का प्रयास करना चाहिए।

 

 

गौरतलब है कि भारतीय सेना ने एक अभियान के तहत जम्मू कश्मीर में 13 आतंकियों को मौत के घाट उतारा था। अफरीदी ने जम्मू कश्मीर में मारे गए इन आतंकियों के प्रति हमदर्दी जताते हुए ट्वीट किया था।

 

“भारत के कब्जे वाले कश्मीर में हालत खराब और चिंताजनक हैं, वहां की सरकार बेगुनाहों को गोली मार रही है। वहां आजादी की आवाज को दबाया जा रहा है, लेकिन हैरानी है कि यूएन और दूसरी इंटरनेशनल संस्थाएं कहां हैं, वे खून-खराबा रोकने के लिए कोई कोशिश क्यों नहीं कर रहीं?”

 

 

इसके बाद भारतीयों लोगों ने उन्हें खूब खरी खोटी सुनाई थी। यहां तक कि भारतीय क्रिकेट टीम के कई दिग्गज खिलाड़ियों ने उन्हें करारा जवाब दिया था।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement