ताजमहल को भोलेनाथ का मंदिर मानकर कुछ लोगों ने शिव चालीसा पढ़ा, लिखना पड़ा माफीनामा

Updated on 24 Oct, 2017 at 3:42 pm

Advertisement

ताजमहल पर उपजा विवाद अब भी जारी है। इसी विवाद के बीच अब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद ताजमहल का दौरा करने जा रहे हैं। हालांकि, अब अब एक नया विवाद सामने आ गया है।

एक संगठन के कुछ सदस्य ताजमहल में घुस गए और शिव चालीसा का पाठ करने लगे।

ये लोग हिन्दू युवावाहिनी नामक एक संगठन के सदस्य थे। अलीगढ़ व हाथरस से आए ये लोग ताजमहल में पहुंचने के बाद विडियो प्लेटफॉर्म पर चले गए और शिव चालीसा का पाठ किया। इन लोगों का कहना था कि सोमवार को शिव की पूजा होती है, इसलिए उन्होंने तेजोमहालय में शिव चालीसा के लिए आज ही का दिन चुना।

हालांकि, बाद में केंद्रीय सुरक्षा औद्योगिक बल ने उन्हें हिरासत में ले लिया और माफीनामा लिखवाने के बाद छोड़ा।

एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिकः

‘ताजमहल में मोबाइल चेकिंग तो होती नहीं है। कुछ लोग मोबाइल में कुछ देख रहे थे। तभी सीआईएसएफ कर्मियों ने उन्हें शिव चालीसा का पाठ करते हुए पकड़ लिया। उनके पास कोई किताब नहीं थी. गलती मानने पर उन्हें छोड़ दिया गया।’

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 26 अक्टूबर को ताजमहल के दौरे पर आने वाले है और यहां वह 30 मिनट तक रहेंगे।

फिलहाल, इन युवाओं ने ऐसा करके सरकार और पुलिस प्रशासन के लिए नई मुसीबत खड़ी कर दी है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement