#MeToo को लेकर ये क्या बोल गईं शिल्पा शिंदे! इस मूवमेंट को बताया बकवास

author image
Updated on 12 Oct, 2018 at 5:32 pm

Advertisement

इन दिनों #MeTo0 कैपेंन को लेकर पूरी एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री एकजुट होती नजर आ रही है। जब से बॉलीवुड अभिनेत्री तनुश्री दत्ता ने #MeToo आंदोलन की शुरुआत की तब से अब तक कई नामी-गिरामी लोगों के नाम सामने आ चुके हैं। केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर से लेकर ‘संस्कारी बाबू’ आलोक नाथ, विकास बहल, रजत कपूर, चेतन भगत, कैलाश खेर और अब जाने-माने डायरेक्टर सुभाष घई और मशहूर राइटर और एक्टर पीयूष मिश्रा पर भी कई संगीन आरोप लगे हैं।

 

लेकिन इस बीच फेमस टेलीविजन एक्ट्रेस और ‘बिग बॉस 11’ की विनर शिल्पा शिंदे ने कुछ ऐसा कह दिया है जो #MeToo के एकदम उलट है। उन्होंने #MeToo अभियान को बकवास बताया है।

 


Advertisement

शिल्पा शिंदे पिछले साल खुद ही ‘भाबीजी घर पर हैं’ के निर्माता संजय कोहली पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगा चुकी हैं, लेकिन अब #MeToo पर किए सवाल पर उनके कुछ अलग ही तेवर में नज़र आए।

 

शिल्पा ने एक वेबसाइट से अपनी बातचीत में कहा जो #MeToo के नाम पर हो रहा है वो पूरी तरह बेवकूफी है। आपके साथ जिस वक्त ऐसी घटना होती है उसी वक्त इस बारे में आवाज उठानी चाहिए। जब होता है तभी बोलो। बाद में बोलने का कोई फायदा नहीं, बाद में बोलना बेकार है। बाद में आप आवाज उठाते हैं, उसे कोई नहीं सुनेगा। यह बस कंट्रोवर्सी हो कर रह जाती है और कुछ नहीं।

 

यहां तक शिल्पा ने जो बोला वो ठीक था, लेकिन इसके बाद शिल्पा कुछ ऐसा बोल गईं जिससे विवाद हो सकता है। शिल्पा ने कहा इंडस्ट्री में कोई रेप नहीं होता। इसे आपसी समझ कहा जाता है।

 

 

शिल्पा ने आगे कहा यह इंडस्ट्री बुरी नहीं है और यह बहुत अच्छी भी नहीं है। हर जगह ये बातें होती हैं। मुझे नहीं पता क्यों हर कोई खुद इस इंडस्ट्री के नाम को खराब कर रहा है। महिलाएं अब बोलने लगी हैं, अपनी बात रखने लगी हैं, लेकिन इस इंडस्ट्री में कोई रेप नहीं होता, जो कुछ ही इस इंडस्ट्री में होता है वो ज़बरदस्ती नहीं होता। ये आपसी समझ के साथ होता है। और अगर आप ऐसा करने के लिए तैयार नहीं हैं, तो उस चीज़ को छोड़ दें।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement