बांग्लादेश में एक और सेक्युलर ब्लॉगर की हत्या, इस्लामिक कट्टरपंथ के आलोचक थे नजीमुद्दीन

author image
Updated on 2 Sep, 2017 at 3:43 pm

बांग्लादेश में इस्लामिक चरमपंथियों ने बुधवार रात एक सेक्युलर ब्लॉगर की चाकू मारकर हत्या कर दी। मृतक की पहचान 28 साल के नजीमुद्दीन समद के रूप में हुई है।

समद फेसबुक पर बेहद सक्रिय धर्मनिरपेक्ष लेखकों में से एक थे। वह ढाका के जगन्नाथ विश्वविद्यालय में कानून के छात्र भी थे।

इस रिपोर्ट के मुताबिक, चार हमलावरों ने अल्हाहू अकबर का नारा लगाते हुए, नजीमुद्दीन पर बड़े चाकू से कई वार किए और बाद में गोलीमार कर हत्या कर दी।

हालांकि, इस हमले की अब तक किसी भी समूह ने जिम्मेदारी नहीं ली है।

ढाका मेट्रोपोलिटन पुलिस के डिप्टी कमिशनर सैयद नुरुल इस्लाम के मुताबिक, समद ने दो महीने पहले ही जगन्नाथ विश्वविद्यालय में दाखिला लिया था। इस्लाम के मुताबिक, हमलावर नजीमुद्दीन पर नजर बनाए हुए थे।

बताया गया है कि समद तभी इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर आ गए थे, जब उन्होंने अपने फेसबुक प्रोफाइल में अपना धर्म नास्तिक बताया था। यही नहीं, उन्होंने इस्लाम को लेकर एक व्यंग्य में कहा थाः

बांग्लादेश में सिर्फ 5 साल के लिए शरिया लॉ लागू कर दिया जाए और मदीना लॉ के तहत रूल किया जाए। मैं दावे के साथ कहता हूं कि 5 साल बाद कोई भी मुसलमान इस्लामिक लॉ की बात नहीं करेगा।

समद सिलहट का रहने वाले थे। वह अपने साथियों के साथ मिलकर फेसबुक पर सेक्युलरिज्म को लेकर कैम्पेन चला रहे थे। हत्या से पहले उसने फेसबुक पोस्ट पर देश की कानून-व्यवस्था पर चिंता जताई थी।

गौरतलब है कि, हाल ही में बांग्लादेश में 5 से अधिक सेक्युल ब्लॉगर्स की हत्या कर दी गई है।

आपके विचार