हरियाणा के 7 जिलों में धारा 144 लागू, पैरामिलिट्री फोर्स की 10 कंपनियां तैनात

author image
Updated on 30 May, 2016 at 4:34 pm

Advertisement

हरियाणा में जाट आंदोलन के एक बार और भड़कने के आसार बन रहे हैं। आरक्षण की मांग कर रहे जाट नेताओं ने सरकार को 5 जून तक का अल्टीदेम दे रखा है।

कानून-व्यवस्था की स्थिति बिगड़ने की आशंका के मद्देनजर राज्य के 8 संवेदनशील जिलों में धारा 144 लागू कर दी गई है। इन जिलों में पैरामिलिट्री फोर्स की 10 कंपनियों को तैनात किया गया है। छह शहरों में CISF को तैनात कर दिया गया है।

गौरतलब है कि अखिल भारतीय जाट संघर्ष समिति ने रविवार को दिल्ली में आपात बैठक में 5 जून से प्रदर्शन करने का ऐलान किया। समिति के अध्यक्ष यशपाल मलिक ने कहा, हम ‘जाट न्याय’ रैली निकालेंगे, क्योंकि प्रदेश सरकार ने अपने वादों को पूरा नहीं किया।

सोनीपत, भिवानी, झज्जर, रोहतक, हिसार, जींद, कैथल सहित 7 जिलों में धारा-144 लगाई गई है।

वहीं, रोहतक, हिसार, झज्जर, भिवानी, कैथल, जींद और सोनीपत में सीआरपीएफ, आरएएफ और बीएसएफ की टुकड़ियां तैनाती की गई है। जगह-जगह नाके लगाकर संदिग्ध गतिविधियों पर नजर रखी जा रही है।

इस बीच, राज्य सरकार ने अधिकारियों और कर्मचारियों की छुट्टियां रद्द कर दी है। मूनक नहर पर सीआरपीएफ की एक कंपनी को तैनात किया गया है।

फरवरी में हुए आंदोलन और इसके बाद भड़की हिंसा से सबक लेते हुए पुलिस और प्रशासन अतिरिक्त सतर्कता बरत रहा है।

जाटों और खाप नेताओं से शांतिपूर्वक आंदोलन की अपील की गई है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement