पिन कोड में छिपा है आपके पते का कच्चा चिट्ठा

author image
Updated on 25 Nov, 2015 at 3:52 pm

Advertisement

PIN यानी कि ‘पोस्टल इंडेक्स नंबर’। इसकी शुरुआत 15 अगस्त, 1972 को हुई और यह तब से ही प्रचलन में है। पिन कोड एक बहुत ही खास नंबर है, जिस पर हमारी पूरी डाक व्यवस्था निर्भर करती है। 6 नंबरों को मिलाकर तैयार किए गए यह कोड आपके क्षेत्र की पूरी जानकारी देते हैं। इसका हर नंबर किसी खास क्षेत्र के लिए ही तैयार किया गया है। आपको अपने शहर, कस्बे, इलाके का पिनकोड मालूम होगा, लेकिन क्या आप यह जानते है कि किस तरह से यह पिनकोड तैयार किया जाता है और क्यों यह 6 डिजिट के ही होते है और हर डिजिट का क्या मतलब होता है? हम यहाँ आपको पिन कोड से जुड़े तमाम सवालों के जवाब दे रहे हैं जो अक्सर आपके ज़हन में आते होंगे। यक़ीनन पिन कोड की इस गुत्थी को जानने के बाद आप निश्चित तौर पर किसी भी पिनकोड को देखकर ही समझ लेंगे कि वह है कहाँ का। आइए जानते है कि किस तरह पिनकोड को डिकोड किया जाए:

1. पिन कोड का पहला डिजिट क्षेत्र को दर्शाता है।

हमारे देश को 6 खास जोन में बांटा गया है। यह जोन निम्न है :

  • उत्तर-1, 2
  • पश्चिम-3, 4
  • दक्षिण-5, 6
  • पूर्वी-7, 8
  • आर्मी-9

यहाँ हम उदाहरण के तौर पर दक्षिण जोन ले रहे है।

Postal Services


Advertisement

2. दूसरा डिजिट राज्य के सब-रीज़न (उप क्षेत्र) को दर्शाता है।

(दक्षिण जोन में तेलंगाना)

Postal Service in India

पहली डिजिट के साथ दूसरी डिजिट को मिलाने पर, राज्य उप क्षेत्र  के डिजिट इस प्रकार हैंः



  • 11 नंबर दिल्ली,
  • 12-13 हरियाणा,
  • 14-16 पंजाब,
  • 17 हिमाचल प्रदेश,
  • 18 और 19 जम्मू और कश्मीर,
  • 20-28 उत्तर प्रदेश और उत्तरांचल,
  • 30-34 राजस्थान,
  • 36-39 गुजरात,
  • 40-44 महाराष्ट्र,
  • 45-49 मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़,
  • 50-53 आंध्र प्रदेश, तेलंगाना
  • 56-59 कर्नाटक,
  • 60-64 तमिलनाडु,
  • 67-69 केरल,
  • 70-74 बंगाल,
  • 75-77 ओड़िशा,
  • 78 असम,
  • 79 नॉर्थ ईस्टर्न इलाके,
  • 80-85 बिहार-झारखंड और
  • 90-99 आर्मी पोस्टल सर्विसेज।

3. पिन कोड का तीसरा डिजिट जिला(डिस्ट्रिक्ट) को दर्शाता है।

(यहाँ पर यह हैदराबाद/रंगारेड्डी है)

Postal Service in India

4. आखिरी तीन डिजिट सम्बद्ध डाकघरों से जुड़े होते हैं।

(यहाँ पर यह KPHB कॉलोनी डाकघर)

Postal Service in India

5. इस तरह से आपका पिन कोड यानी पोस्टल इंडेक्स नंबर, इंडियन पोस्टल सिस्टम के लिए, आपकी हर पोस्ट (डाक) को सही पते तक पहुंचाने में मदद करता है।

Postal Service in India

स्रोत: Factly


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement