7 साल की बच्ची का नहीं बन रहा आधार कार्ड, स्कूल का दाखिला देने से इंकार

author image
Updated on 25 Jul, 2017 at 1:54 pm

Advertisement

आधार कार्ड कई कार्यों के लिए अनिवार्य कर दिया गया है। ऐसे में सरकार लोगों से अपील भी कर रही है कि वे आधार कार्ड बनवाएं, लेकिन कुछ लोगों को आधार कार्ड बनवाने में परेशानियों से दो-चार होना पड़ रहा है।

मसलन, दक्षिण दिल्ली के घिटोरनी गांव में रहने वाली सात साल की बच्ची के उंगलियों के निशान साफ न होने की वजह से उसका आधार कार्ड नहीं बन पा रहा है। इस कारण उसे सरकारी स्कूल दाखिला नहीं दे रहा है।

बच्ची के पिता अजीज खान ने बताया कि उनके तीन बच्चे हैं, जिनमें 9 साल की बड़ी लड़की और सात साल के जुड़वां बच्चे हैं। जुड़वां बच्चों में एक लड़का और लड़की पहले प्राइवेट स्कूल में पड़ते थे, लेकिन आर्थिक तंगी  के कारण उन्होंने अपने बच्चों को पास के ही सरकारी स्कूल में दाखिला दिलाने का फैसला लिया।

जब वह स्कूल गए तो स्कूल वालों ने दाखिले की प्रक्रिया के लिए आधार कार्ड को जरूरी बताया। तब वह अपने तीनों बच्चों को लेकर आधार केंद्र लेकर  पहुंचे। बड़ी लड़की और 7 साल के लड़के का आधार कार्ड तो बन गया, लेकिन उनकी छोटी लड़की तनाज के फिंगरप्रिंट्स साफ न होने की वजह से कार्ड नहीं बन पाया।

girl

indiatimes


Advertisement

बच्ची के पिता ने महरौली तहसील में जाकर अपनी समस्या बताई, लेकिन कुछ हल नहीं निकला। फिर उन्होंने बच्ची के जन्म प्रमाण पत्र के साथ स्कूल प्रशासन से एक बार फिर संपर्क किया और अपनी परेशानी उन्हें बताई। लेकिन स्कूल वालों ने बिना आधार कार्ड के दाखिला देने से मना कर दिया। अब लिहाजा, तनाज के माता पिता अपनी बच्ची की पढ़ाई को लेकर चिंतित हैं।



आपको बता दें कि शिक्षा के अधिकार अधिनियम के तहत कोई भी स्कूल 6 से 14 साल तक के बच्चे को सिर्फ किसी डॉक्युमेंट के कारण दाखिला देने से मना नहीं कर सकता हैं। ऐसे में स्कूल के इस रवैये पर सवाल खड़े हो रहे हैं।

वहीं, फिंगरप्रिंट की वजह से कार्ड नहीं बन पाने के कई मामले पहले भी सामने आए हैं। इस परेशानी को देखते हुए कानून में प्रावधान उपलब्ध हैं। कानूनन  14 साल के बाद बच्चों का कार्ड रिन्यू कराना होता है। ऐसे में तब तक अन्य पहचान-पत्रों के आधार पर बच्चों का कार्ड जारी किया जा सकता है।

वहीं, अगर किसी व्यक्ति को फिंगरप्रिंट की वजह से आधार कार्ड जारी नहीं पा रहा है तो वह यूनीक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) को लिखित शिकायत कर सकता है।

 


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement