मंगलयान को अंतरिक्ष में भेजने से ज्यादा खर्चीला है दो बाघों को बचाना !

author image
Updated on 16 Jul, 2017 at 8:41 pm

Advertisement

मंगलयान को अंतरिक्ष में भेजना और दो बाघों को बचाना, इन दोनों अलग-अलग बातों की तुलना करना अजीब है, लेकिन कुछ वैज्ञानिकों ने एक ऐसी रिपोर्ट पेश की है, जो चौंकाने वाली है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि दो बाघों को बचाना मंगलयान को अंतरिक्ष में भेजने से अधिक खर्चीला है। मंगलयान को अंतरिक्ष में भेजने में 450 करोड़ रुपए का खर्च आया, जबकि दो बाघों को बचाने में 520 करोड़ खर्च होते हैं ।

‘मेकिंग द हिडन विजिबल: इकोनॉमिक वैल्युएशन ऑफ टाइगर रिजर्व इन इंडिया’ नाम की रिपोर्ट में यह बात कही गई है। भारतीय ऑस्ट्रेलियाई वैज्ञानिकों ने मिलकर यह विश्लेषण किया है।



एक आंकड़े के मुताबिक, भारत में वयस्क बाघों की संख्या 2,226 है। ऐसे में इन बाघों को बचाने में 5.7 लाख करोड़ रुपये का खर्च होने का अनुमान है। इस रकम नोटबंदी के दौरान जमा हुई कुल रकम का करीब एक तिहाई हिस्सा बताया जा रहा है।

IndiasTiger

takepart


Advertisement

कंजरवेशनिस्ट्स के मुताबिक, बाघों को बचाने से आर्थिक समझ बेहतर होती है। ऐसा तब होता है जब बाघों के प्राकृतिक निवास को बचाने से इकोसिस्टम को फायदा होता है। कंजरवेशनिस्ट्स का कहना है कि बाघ के बचाने को केवल पैसे से जोड़कर नहीं देखा जा सकता।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement