प्लास्टिक प्रदूषण से नदियों को बचाने के लिए हम भी ये तरीका क्यों नहीं अपना सकते!

Updated on 28 Nov, 2018 at 12:46 pm

Advertisement

हमारे देश में प्रदूषण की समस्या सबसे बड़ी है। यहां की नदियों का क्या हाल है हम सभी जानते हैं। भर-भर के नदियों में कारखानों से कचरा आता है साथ ही लोग भी अपनी ज़िम्मेदारी नहीं समझते। गंगा का क्या हाल है ये किसी से छिपा नहीं है। इस प्रदूषण से नदियों को बचाने के लिए कई कदम उठाने की बात कही जाती है, लेकिन वो बात सिर्फ़ बात बनकर रह जाती है। ऐसे में ऑस्ट्रेलिया ने जो किया है, अगर हम भी वैसा ही कुछ करें तो हम भी अपने देश की नदियों को खत्म होने से बचा सकते हैं।

ऑस्ट्रेलिया के क्विनाना शहर ने प्लास्टिक प्रदूषण से बचने का तरीका खोज निकाला है। यहां पिछली गर्मियों में अधिकारियों ने हेनले रिज़र्व में एक नई निस्पंदन प्रणाली स्थापित की। ये एक ऐसी प्रणाली है जिसका उपयोग कहीं भी किया जा सकता है। क्विनाना शहर की सरकार और नागरिक दोनों ने इस प्रणाली का उपयोग देखा और इससे लाभ के बारे में भी जानकारी प्राप्त की। ये वाकई असरदार है।

 

net- जाल

brightside.


Advertisement

 

इसमें एक जाल होता है जो एक पाइपलाइन के आउटलेट पर रखा जाता है। ये जाल मलबे को नदियों में मिलने से रोकता है और पर्यावरण को प्रदूषण से बचाने में मदद करता है।

 

 

इस सिस्टम को पहले दो जाल लगाकर शुरू किया गया। इसका परिणाम देखकर सभी हैरान रह गए। इस सिस्टम से एक हफ़्ते के अंदर ही 800 पाउंड से भी ज़्यादा कचरा नदियों में जाने से बचाया गया।

 

 

इसे देखते हुए पूरे शहर में इन कूड़े जाल को लगाने और वन्यजीवन और आस-पास के माहौल में प्रदूषण को कम करने का फ़ैसला लिया गया।

 

 

जब ये जाले भर जाते हैं, तब उन्हें उठाया जाता है और कचरे को ट्रक में इकट्ठा किया जाता है। इसके बाद ट्रैश-सॉर्टिंग सेंटर में ले जाया जाता है। जहां कचरे को डंप कर दिया जाता है। इसके बाद जाल को फिर जल निकासी आउटलेट पर दोबारा रख दिया जाता है।

 

 

इस नई प्रणाली को हम भी अपने देश में इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे प्रदूषण कम करने में मदद तो मिलेगी ही साथ ही पर्यावरण संरक्षण में ये कारगर होगा।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement