सलमान जब अपने ही प्रोडक्शन हाउस में जीजा-साला खेलते हैं, तो शायद उसे ‘लव यात्री’ कहते हैं

author image
9:52 am 5 Oct, 2018

Advertisement

‘लव यात्री’ फ़िल्म के बारे में यह जानना ज़रूरी है कि बॉलीवुड के भाईजान सलमान जब अपने ही प्रोडक्शन हाउस में जीजा-साला खेलते हैं, तो शायद उसे ‘लव यात्री’ कहते हैं। सलमान खान ने अपने जीजा आयुष शर्मा के लिए फ़िल्म ‘लव रात्रि’ बनाई जो आज बड़े पर्दे पर ‘लव यात्री’ बनकर रिलीज़ हो गई है।

खैर इस फ़िल्म से बड़े पर्दे पर दो नये चेहरों की यात्रा शुरू हो रही है, पहले हैं सलमान की बहन अर्पिता के पति आयुष शर्मा। इस फ़िल्म में आयुष की सबसे खास बात है वे सलमान के जीजा हैं। आयुष को ये फ़िल्म पाने के लिए इसी फैक्टर की बेहद ज़रूरत रही होगी। रही बात आयुष की एक्टिंग और लुक की तो फ़िल्म के ट्रेलर गाने वगैरह देख कर लग रहा है वो टाइगर श्रॉफ़, ऋतिक रोशन, रमैया वस्तावैया वाले गिरीश कुमार का मिक्स नींबू पानी वाला शरबत हैं, जिसे नवरात्रि के मौके पर ‘चोगाड़ा तारा’ के साथ परोसा जा रहा है।

 


Advertisement

 

वहीं, इस फ़िल्म में दूसरी तरफ वरीना हुसैन डेब्यू कर रही हैं। गूगल पर वरीना के बारे में बहुत ढूंढने पर इतना ही पता चलता है कि भाईजान सलमान ख़ान के बहनोई आयुष शर्मा की फ़िल्म से डेब्यू करने जा रही हैं। कुल मिलाकर इस फ़िल्म के ट्रेलर से लेकर प्रमोशन तक सलमान ने कोई कसर नहीं छोड़ी है। फिर भी फ़िल्म ‘लव यात्री’ की दो जबरदस्त कमजोर कड़ियां हैं, जिसकी वजह से कई रंगों से सजी ये फ़िल्म 3 से 4 करोड़ की ओपनिंग से ज़्यादा कमा ले इस पर ज़रा शक ही है।

 

कमज़ोर कहानी

 



‘लव यात्री’ पूरी तरह से एक कमर्शियल फ़िल्म है, जिसे नवरात्रि के प्लॉट पर बनाया गया है। त्योहार के रंग में इसे भुनाने की कमजोर कोशिश की गई है। कहानी पूरी तरह से घिसीपिटी बॉलीवुड मसाला है। गरीब लड़का, अमीर लड़की, अकड़ू बाप और प्यार में बागी दो लोग। लड़का और लड़की भारत में मिलते हैं लेकिन उनकी लव स्टोरी पूरी होगी विदेश में। फिल्म में राम कपूर गरीब बाप और रोनित रॉय अमीर बाप की भूमिका में दिखाई देंगे। वहीं, परिवार की बात है तो फिल्म में अरबाज़ खान और सोहेल खान भी कॉमेडी करते नज़र आएंगे, जो वो सीरियस फ़िल्म में भी बेहतर कर लेते हैं। कुल मिलाकर इस तरह की आप 100 फिल्में देख चुके होंगे।

 

आयुष शर्मा के डांसिंग स्किल्स

यह इस फ़िल्म की सबसे कमजोर कड़ी साबित हो सकती है। आयुष शर्मा इस फ़िल्म में बड़ौदा के एक गरबा टीचर सुश्रुत की भूमिका निभा रहे हैं। हालांकि, अगर आप इस फ़िल्म के फेस्टिव गीतों को देखते हैं तो एक दो शॉट को छोड़कर बहुत सामान्य लगे हैं। आयुष एक टीचर के रोल में अपने डांस के दोहरापन की वजह से बेहद सीमित दिखते हैं। इसलिए शानदार बीट्स और गरबा के चारों ओर बुने जाने वाली इस फ़िल्म में गरबा के आकर्षक मूव्स की उम्मीद करना बेईमानी लगता है।

 

 

ये तो हुई फ़िल्म की बात, वैसे सलमान खान नए कलाकारों को लॉन्च कर-कर के बॉलीवुड के अलग किस्म के ‘गॉडफादर’ बन गए हैं। उनके बारे में यह राय बनती जा रही है कि उन कलाकारों से एक्टिंग करा सकते हैं, जिन्हे एक्टिंग से खास लेना देना नहीं है। कैटरीना कैफ को एक हद तक छोड़ दें तो, सोनाक्षी सिन्हा, डेज़ी शाह, आथिया शेट्टी और सूरज पंचोली अभी भी अच्छी स्क्रिप्ट के इंतज़ार में हैं। वहीं ऐश्वर्या जैसे दिखने वाली स्नेहा उलाल, कैटरीना कैफ़ जैसी दिखने वाली ज़रीन खान को लॉन्च कर सलमान यह साबित भी कर चुके हैं वे इंडस्ट्री के असली दबंग है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement