भिखारी के घर मिली 1000 के नोटों से भरी बोरियां

author image
Updated on 25 Jan, 2016 at 8:21 pm

Advertisement

जब कभी हम किसी भिखारी को देखते हैं तो उसकी परिस्थति का सहज अंदाज़ा लगाते हैं। उसकी दरिद्रता की कल्पना भी करते हैं। कभी-कभी उनकी लाचारी और निर्धनता पर तरस खा कर उनकी मदद भी कर देते हैं। लेकिन यह खबर आपको चौका देगी कि एक भिखारी के पास जमा-राशि इतनी है की एक निन्न मध्यम वर्ग परिवार कल्पना भी नहीं कर सकता।

है न अचरज में डालने वाली खबर? तो आइए जानते है आख़िर क्या है पूरा मामला।

जब घर में लगी आग तब खुली पोल

घटना मुंबई के निकट ठाणे के कल्याण इलाके की है। यहां रहने वाले मोहम्मद रहमान और फातिमा भीख मांग कर गुजर-बसर करते हैं। दरअसल पिछले साप्ताह इनके घर में आग लग गयी थी। जब आग को बुझाने के लिए स्थानीय लोगों ने मदद की, तो उन्हें रहमान के घर से नोटों से भरी तीन बोरियां मिली।


Advertisement

कैसे लगी आग?

रहमान पहले कार पेंटर था। अपने बेटे से विवाद होने के कारण उसे मजबूरन अलग रहने के लिए विवश होना पड़ा। पेट पालने के लिए उसे और उसकी पत्नी फातिमा को भीख मांगना पड़ा। मंगलवार रात बिजली चली जाने के बाद उन्होंने मोमबत्ती जलाई थी। लापरवाही की वजह से मोमबत्ती गिर गयी और घर में आग लग गई।

जब मिली नोटों से भरी बोरियां तो उड़ गये होश

जब आग पर काबू पा लिया गया, तो स्थानीय लोग हालात का जायजा लेने उसके घर पहुंचे। जब उन्हें नोटों से भरी तीन बोरियां मिलीं, तो उनके होश उड़ गए। उन तीन बोरियों में से एक बोरी पूरी तरह जल चुकी थी, जबकि बाकी बची दो बोरियां सही सलामत थी। बोरियों को जब खोला गया, तो उसमें 50, 100, 500 और 1000 के नोट थे।

सालों की थी जमा पूंजी

हालांकि, पुलिस उपायुक्त संजय जाधव कहते हैं कि उनके पास इतनी बड़ी मात्रा में नोट मिलने की कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है। स्थानीय लोगों का मानना है ऐसे ही नोटों से भरा एक बड़ा ड्रम भी था, जिन्हे इन दोनों ने मिल कर किसी दूसरी जगह पर छुपा दिया है। इस बीच, फ़ातिमा ने सफाई दी है की यह उनकी सालों की मेहनत थी, जो भीख के रूप में मददगारों से मिली थी।

क्या कहेंगे इन अमीर भिखारियों के बारे में आप?


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement