रोबोट का पहला ‘नस्ली हमला’, जानिए क्या है मामला

author image
Updated on 9 Dec, 2016 at 11:43 am

Advertisement

न्यूजीलैन्ड में एक रोबोट द्वारा एक एक एशियाई मूल के व्यक्ति पर ‘नस्ली हमला’ किए जाने की खबर है। दरअसल, रोबोट ने व्यक्ति की फोटो को खारिज कर दिया। इस घटना को रोबोट द्वारा दुनिया का पहला ‘नस्ली हमला’ माना जा रहा है।

इस रिपोर्ट के मुताबिक, न्यूजीलैन्ड में रिचर्ड ली नामक एक छात्र अपना पासपोर्ट रिन्यू कराने गया था, लेकिन ऑनलाइन पासपोर्ट फोटो चेकर सॉफ्टवेयर ने उनकी फोटो को खारिज कर दिया और वह इसे रिन्यू कराने में नाकाम रहे। दरअसल, यह रोबोट फेशियल रेकगनीशन सॉफ्टवेयर पर काम करता है। जब इसके सामने एशियाई मूल का एक व्यक्ति आया तो सॉफ्टवेयर ने उसकी आंखों को बंद बता दिया। बाद में 22 साल के इंजीनियरिंग के छात्र ली ने सॉफ्टवेयर के दिए जवाब को फेसबुक पर पोस्ट कर दिया और यह वायरल हो गया। हालांकि बाद में उनका पासपोर्ट रिन्यू हो गया।


Advertisement

ली का कहना है कि उनकी आंखें बचपन से ही छोटी हैं, साथ ही चेहरा पहचानने की यह तकनीक कमोवेश नई है। यह अभी तक पूरी तरह विकसित नहीं हुई है।

इस खबर पर प्रतिक्रिया-स्वरूप न्यूजीलैंड के गृह मंत्रालय द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि ऑनलाइन दाखिल की जाने वाली तस्वीरों में से लगभग 20 फीसदी किसी न किसी वजह से खारिज हो जाती हैं। उन्होंने कहा कि खारिज होने की सबसे आम वजह यही बताई जाती है कि आंखें बंद हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement