चीन में हिट हो रहे हैं ऋषिकेश के योग गुरू, कमा रहे हैं लाखों में

author image
Updated on 7 Mar, 2017 at 7:16 pm

Advertisement

भारत में लंबे समय से योग की परंपरा रही है। जब कभी भी हम योग की बात करते हैं तो हमारे जेहन में ऋषिकेश का नाम सबसे पहले आता है। इसे भारत की योग राजधानी भी कहते हैं। दुनिया भर में भारतीय योग की विरासत को पुनर्स्थापित करने में ऋषिकेश के योग गुरुओं का अतुलनीय योगदान रहा है।

ऋषिकेश से दुनिया के अलग-अलग देशों में योग शिक्षक गए हैं और योग की परंपरा का आगे बढ़ा रहे हैं।

इस रिपोर्ट के मुताबिक, चीन में करीब 1500 से अधिक भारतीय योग शिक्षक मौजूद हैं। इनमें से करीब 80 फीसदी ऋषिकेश से हैं।

रिपोर्ट में योग शिक्षक आशीष बहुगुणा के हवाले से बताया गया है कि वह पिछले 10 साल से चीन में योग सिखा रहे हैं। उन्होंने ऋषिकेश के परमार्थ निकेतन आश्रम से शिक्षा ली थी। बहुगुणा बीजिंग में वी योगा नामक एक स्टूडियो चलाते हैं। वह कहते हैं कि भारत के योग शिक्षक की विदेश में बहुत कद्र की जाती है। वह यह भी कहते हैं कि चीन में योग बेहद लोकप्रिय हो रहा है।

वर्ष 2009 में जहां 40 लाख लोग योग सीखते थे, वहीं वर्ष 2014 योग सीखने वालों की संख्या अभूतपूर्व तरीके से बढ़कर एक करोड़ हो गई है।


Advertisement

इसी रिपोर्ट में बीजिंग के Daxue Consulting की एक रपट का हवाला दिया गया है। इसके मुताबिक, वर्ष 2009 में चीन में जहां 1 लाख पेशेवर योग शिक्षक थे, वहीं वर्ष 2014 में इनकी संख्या बढ़कर ढाई लाख हो गई है।

ये योग शिक्षक महीने में कम से 1 लाख रुपए की कमाई कर रहे हैं।

कहा जाता है कि भारतीय योग शिक्षकों पर विदेशी नागरिक भरोसा करते हैं, क्योंकि योग की उत्तपत्ति भारत में ही हुई है। जहां तक चीन की बात है तो यहां के लिए योग का सही तरीका सीखना चाहते हैं। यही वजह है कि वे भारतीय शिक्षकों को उपयुक्त मानते हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक चीन का योग मार्केट प्रतिवर्ष 20 फीसदी के हिसाब से बढ़ रहा है। इससे युवाओं में योग सिखाने के प्रति दिलचस्पी बढ़ी है।

Advertisement
Tags

आपके विचार


  • Advertisement