पिता का अंतिम संस्कार कर मैदान में उतरे ऋषभ पंत, खेली शानदार पारी

author image
Updated on 9 Apr, 2017 at 4:24 pm

Advertisement

8 मार्च को खेले गए आईपीएल के शानदार मुकाबले में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने दिल्ली डेयरडेविल्स को भले ही हरा दिया हो, लेकिन दिल्ली डेयरडेविल्स के एक खिलाड़ी ने सबका दिल जीत लिया। डेयरडेविल्स के बल्लेबाज ऋषभ पंत ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए 36 गेंदों में 57 रन बनाए।

ऋषभ की ये पारी इसलिए खास है, क्योंकि दो दिन पहले ही उत्तराखंड के रुड़की में कार्डिएक अटैक के कारण उनके पिता राजेंद्र पंत का असामयिक देहांत हो गया।

अंतिम संस्‍कार के लिए उन्‍हें टीम का साथ छोड़कर रुड़की रवाना होना पड़ा था। पिता की इस तरह अचानक मौत से पंत को बड़ा झटका लगा, लेकिन इस खिलाड़ी ने अपनी मनोदशा को नियंत्रित किया। वह पिता का अंतिम संस्कार करने के बाद बैंगलोर के खिलाफ मुकाबले के लिए अपनी टीम दिल्ली डेयरडेविल्स के साथ जुड़े।

पहले खबरें आ रही थी कि 19 साल के ऋषभ पंत पहला मैच शायद न खेलें, लेकिन अपने हौसले को बांधते हुए वह बैंगलोर के खिलाफ पूरी तैयारी के साथ उतरे।

भले ही दिल्ली डेयरडेविल्स मैच हार गई हो लेकिन ऋषभ ने अपनी टीम के लिए बेहतरीन पारी खेली।


Advertisement

इस दुखद घटना पर दिल्‍ली डेयरडेविल्‍स के कोच पैडी उप्‍टन ने कहा कि 19 साल के पंत वही काम करेंगे जो भारतीय क्रिकेट के सुपर सितारे सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली कर चुके हैं। उन्‍होंने कहाः

“ऋषभ शाम को हमसे जुड़ जाएंगे। पूरी टीम उनके साथ होगी और सहारा देगी। वह युवा हैं। जो कुछ भी उनके परिवार में हुआ है वह उनके लिए काफी मुश्किल समय है। इस तरह के वाकये लंबे समय तक असर डालते हैं। हमें उसकी मानसिक स्थिति को लेकर मददगार होना होगा।”

आपको बता दें कि कोहली जब दिल्ली की रणजी टीम का हिस्सा हुआ करते थे, तब एक मैच के दौरान ही उनके पिता का निधन हो गया था। पिता का अंतिम संस्कार कर कोहली मैदान में उतरे थे और अपनी टीम के लिए बेहतरीन पारी खेली थी।

वहीं, सचिन तेंदुलकर के पिता का 1999 में इंग्लैंड में हुए  विश्व कप जैसी अहम प्रतियोगिता के दौरान निधन हो गया था। सचिन पिता के देहांत के चलते एक मैच नहीं खेल पाए थे, लेकिन पिता के अंतिम संस्कार के बाद वह विश्व कप के लिए वापस इंग्लैंड लौटे और अगले ही मैच में केन्या के खिलाफ शतक भी लगाया।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement