पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना में साम्प्रदायिक हिंसा के बाद अर्धसैनिक बल तैनात

author image
Updated on 4 Jul, 2017 at 9:36 pm

Advertisement

पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में साम्प्रदायिक हिंसा के बाद तनाव व्याप्त है। फेसबुक पर कथित आपत्तिजनक पोस्ट के बाद यहां के बशीरहाट सब-डिवीजन के बादुरिया इलाके में मुस्लिम व हिन्दू समुदाय के बीच जमकर हिंसा की खबर है।


Advertisement

भारतीय जनता पार्टी ने आरोप लगाया है कि हजारों की संख्या में बहुसंख्यक मुस्लिम समुदाय के लोगों ने यहां अल्पसंख्यक हो चुके हिन्दुओं पर हमले किए हैं। बड़ी संख्या में घर जला दिए गए और वाहन फूंक दिए गए।

इस विडियो में देखा जा सकता है कि हमलावर ‘अल्लाहू अकबर’ का नारा लगाते हुए पत्थरबाजी कर रहे हैं।

इलाके में ट्रेन यातायात भी प्रभावित हो गई है।

इस पूरे मामले में राष्ट्रीय मीडिया में चुप्पी है। भाजपा सांसद बाबुल सुप्रियो ने राष्ट्रीय मीडिया से बशीरहाट की सुध लेने की गुजारिश की है।



भारतीय जनता पार्टी के महासचिव व पश्चिम बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने इस मामले में गृहमंत्री राजनाथ सिंह से दखल देने की मांग की है।

कानून व्यवस्था की बिगड़ती स्थिति को देखते हुए केन्द्र सरकार ने यहां मंगलवार को अर्धसैलिक बल के 300 जवानों को भेजा है। वहीं, राज्य सरकार ने भी विशेष पुलिस को भेजा है।

इस बीच, उत्तर 24 परगना की साम्प्रदायिक हिंसा पर आरोप-प्रत्यारोप शुरू हो गए हैं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी पर धमकाने का आरोप लगाया है। दरअसल, बादुरिया की हिंसा पर बातचीत के लिए राज्यपाल ने मुख्यमंत्री बनर्जी को फोन किया था। बाद में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने राज्यपाल पर आरोप मढ दिए।

बाद में राजभवन के तरफ से जारी एक विज्ञप्ति में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बयान पर आश्चर्य जताया गया। विज्ञप्ति में कहा गया कि राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बीच हुई बातचीत कॉन्फीडेन्सियल थी और इस बात की उम्मीद नहीं थी कि इसे सार्वजनिक किया जाएगा।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement