रेमंड के मालिक आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं, बेटे ने बुढ़ापे में छोड़ा बेसहारा !

author image
Updated on 9 Aug, 2017 at 8:38 pm

Advertisement

देश के सबसे अमीर बिजनेस घराने और कपड़ों की दिग्गज कंपनी रेमंड लिमिटेड के मालिक विजयपत सिंघानिया की माली हालत ठीक नहीं है। टाइम्स ऑफ इंडिया के इस रिपोर्ट के मुताबिक, वह आजकल दक्षिणी मुंबई की ग्रैंड पराडी सोसायटी में किराए के घर में रह रहे हैं। उन्होंने अपने बेटे पर आरोप लगाया है कि उनके बेटे गौतम ने उन्हें एक-एक पैसे का मोहताज बनाकर रख दिया है।

दरअसल, बढ़ती उम्र को देखते हुए विजयपत सिंघानिया ने रेमंड लिमिटेड की जिम्मेदारी अपने बेटे गौतम सिंघानिया को सौंप दी थी। सिंघानिया ने कहा कि उनका बेटा गौतम रेमंड लिमिटेड को अपनी व्यक्तिगत जागीर की तरह चला रहा है।

Vijaypat Singhania

मुंबई मिरर की एक रिपोर्ट में कहा गया है, 78 वर्षीय विजयपत सिंघानिया ने बांबे हाईकोर्ट में एक याचिका डाली है। इस याचिका में उन्होंने मालाबार हिल्स में अपने ड्यूपलेक्स घर में रहने का अधिकार मांगा है।


Advertisement

विजयपत सिंघानिया ने जिस घर में रहने के लिए अधिकार मांगा है, उस 14 मंजिली इमारत का निर्माण 1960 में किया गया था। बाद में इस बिल्डिंग के 4 ड्यूपलेक्स, रेमंड की ही सहायक कंपनी पश्मीना होल्डिंग्स को दे दिए गए थे। साल 2007 में कंपनी ने एक डील के तहत इस इमारत को 2007 में फिर से बनवाने का फैसला लिया था।

डील के मुताबिक, विजयपत सिंघानिया एवं गौतम, वीणा देवी (विजयपत के भाई अजयपत सिंघानिया की विधवा) और उनके बेटे अनंत और अक्षयपत को इस नई बिल्डिंग में 9 हजार प्रति वर्ग फीट की कीमत के भुगतान पर एक-एक ड्यूपलेक्स मिलना था।

raymond

विजयपत सिंघानिया के वकील ने कोर्ट को बताया कि 78 वर्षीय सिंघानिया ने अपनी सारी संपत्ति अपने बेटे के नाम कर दी। अपनी कंपनी के 1000 करोड़ की कीमत के शेयर अपने बेटे के नाम कर दिए, लेकिन बेटा अब उनपर ध्यान नहीं दे रहा है। उन्हें इस उम्र में बेसहारा छोड़ दिया है। यहां तक कि विजयपत सिंघानिया की गाड़ी और ड्राइवर भी छीन लिए गए हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement