सवर्णों के लिए 25 फीसदी आरक्षण चाहते हैं केन्द्रीय मंत्री रामदास आठवले

author image
Updated on 31 Aug, 2016 at 3:33 pm

Advertisement

केंद्रीय सामाजिक न्याय राज्यमंत्री रामदास आठवले ने नौकरियों में सवर्णों के लिए आरक्षण देने की वकालत की है।

फाइनेन्सियल एक्सप्रेस में छपी इस रिपोर्ट के मुताबिक, अठावले ने कहा कि नौकरियों में अगड़ी जाति के गरीब लोगों को 25 प्रतिशत आरक्षण दिया जाना चाहिए। केन्द्रीय मंत्री का दावा है कि अगर इसे लागू कर दिया जाए तो आरक्षण को लेकर चल रही बहस भी खत्म हो जाएगी। उन्होंने कहा कि इस संबंध में वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से बात करेंगे।

दिल्ली में एक कार्यक्रम में भाग लेने के लिए आए आठवले ने कहा कि वह आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को आरक्षण देने के पक्ष में हैं। फिलहाल, SC, ST और OBC के लिए नौकरियों में कुल 49.5 प्रतिशत आरक्षण है। सुप्रीम कोर्ट ने भी आदेश दे रखा है कि इसे 50 प्रतिशत से कम ही रखा जाएगा।

आठवले का कहना है कि सामान्य जाति के गरीबों को 25 फीसदी आरक्षण देते हुए वर्तमान 50 फीसदी आरक्षण सीमा को बढ़ाकर 75 फीसदी किया जाना चाहिए।

माना जा रहा है कि रामदास आठवले के इस बयान के बाद भारतीय जनता पार्टी को उत्तर प्रदेश के आसन्न विधानसभा चुनावों में फायदा मिल सकता है। अब यह निर्भर करता है कि यह मामला प्रधानमंत्री तक पहुंचे और इस मुद्दे पर संसद में बहस कराई जाए।


Advertisement

हाल के वर्षों में देश के अलग-अलग हिस्सों में जाट, गुर्जर, राउत, मराठा और पटेल जैसी अगड़ी जातियों ने आरक्षण की मांग मजबूती से रखी है।

cloudfront

cloudfront


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement