Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

भारत में हिंदी मीडियम से की पढ़ाई, अब है ओबामा सरकार की काउंसलर

Updated on 25 January, 2016 at 7:50 pm By

कहते है मेहनत और लगन का फल मीठा होता है। रेणु खटोड़ एक ऐसा ही नाम है जिन्होंने अपनी लगन के बलबूते अपनी कामयाबी की इबारत लिखी। रेणु ओबामा सरकार की शिक्षा और विदेशी मामलों की सलाहकार परिषद में बतौर काउंसलर शामिल है।


Advertisement

फर्रुखाबाद के एक व्यवसायी परिवार में जन्मी रेणु का यह सफर इतना आसान नहीं था। महज़ 19 साल की उम्र में उनकी शादी ग्वालियर के रहने वाले डॉ.सुरेश खटोड़ से हो गई। शादी के बाद वह अपनी पढ़ाई जारी रखना चाहती थी, जिसके लिए उनके ससुराल वालों ने रेणु को कभी मना नहीं किया।

Renu Khator and Suresh khator

ससुरालवालों ने रेणु को अमेरिका में नौकरी कर रहे बेटे के साथ उसकी गृहस्थी संभालने के लिए उन्हें अमेरिका भेज दिया। यहीं से शुरू होती है रेणु के संघर्ष की दास्तां कि किस तरह से अपने सपनों को उन्होंने अपनी आखों में सजा के रखा और उसे सही मुकाम भी दिया।

इस पूरी कड़ी में रेणु के पति डॉ. सुरेश ने उनका साथ और उनकी शिक्षा को लेकर उन्हें प्रोत्साहन दिया। लेकिन रेणु के सामने जो सबसे बड़ी मुश्किल खड़ी थी वो थी हिंदी मीडियम से उनकी पढ़ाई, जिसके चलते किसी अमेरिकी यूनिवर्सिटी में दाखिला मिलना मुश्किल था। लेकिन भाषा की यह फ़ांस भी रेणु के इरादों को हिला न सकी।



रेणु के सामने फर्राटेदार अंग्रेजी बोलने और लिखने की चुनौती थी। रेणु ने अपनी हिम्मत को बांधे रखा और उनके पति ने भी उनका हर कदम पर साथ दिया। रेणु अंग्रेजी भाषा पर अच्छी पकड़ बनाने के लिए दिन-रात अमेरिकी टीवी टॉक शो देखा करती थी।

इसी के साथ टॉक शो के एंकर्स की तरह बोलने का अभ्यास किया करती थी। यह सिलसिला चलता रहा और रेणु के लिए धीरे-धीरे सब आसान होता चला गया। इसके बाद रेणु ने दोबारा पीछे मुड़कर नहीं देखा।


Advertisement

1975 में रेणु ने अमेरिका की पुदुरू यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएशन और फिर PhD की डिग्री हासिल की। 1985 में रेणु ने फ्लोरिडा यूनिवर्सिटी से अपने करियर की शुरुआत की।

2008 में ह्यूस्टन यूनिवर्सिटी में चांसलर के पद के लिए उन्होंने आवेदन किया। इंटरव्यू देते वक़्त रेणु ने यूनिवर्सिटी की रैंकिंग को बढ़ाने का एक बेहतरीन प्लान सामने रखा, जिससे प्रभावित होकर रेणु को यूनिवर्सिटी की चांसलर और प्रेसिडेंट पद के लिए नियुक्त कर दिया गया।


Advertisement

इस पद को संभालते ही उन्हें अपने बताए गए प्लान को कागज़ से हकीकत में तब्दील करने की चुनौती दे दी गई। रेणु ने इस चुनौती को स्वीकारते हुए इसे पूरा भी किया। इसके साथ ही बीते साल रेणु को काउंसलर के रूप में अमेरिका की शिक्षा और विदेशी मामलों की सलाहकार परिषद में शामिल कर लिया गया।

Advertisement

नई कहानियां

अमीरों के ये बचत के तरीके अपनाकर आप भी बन सकते हैं अमीर

अमीरों के ये बचत के तरीके अपनाकर आप भी बन सकते हैं अमीर


कभी फ़ुटपाथ पर सोता था ये शख्स, आज डिज़ाइन करता है नेताओं के कपड़े

कभी फ़ुटपाथ पर सोता था ये शख्स, आज डिज़ाइन करता है नेताओं के कपड़े


किसी प्रेरणा से कम नहीं है मोटिवेशनल स्पीकर संदीप माहेश्वरी की कहानी

किसी प्रेरणा से कम नहीं है मोटिवेशनल स्पीकर संदीप माहेश्वरी की कहानी


इस फ़िल्ममेकर के साथ काम करने को बेताब हैं तब्बू, कहा अभिनेत्री न सही, असिस्टेंट ही बना लो

इस फ़िल्ममेकर के साथ काम करने को बेताब हैं तब्बू, कहा अभिनेत्री न सही, असिस्टेंट ही बना लो


इस शख्स की ओवर स्मार्टनेस देख हंसते-हंसते पेट में दर्द न हो जाए तो कहिएगा

इस शख्स की ओवर स्मार्टनेस देख हंसते-हंसते पेट में दर्द न हो जाए तो कहिएगा


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें People

नेट पर पॉप्युलर