अब नहीं कर सकेंगे फर्जी रेन्ट रसीद से टैक्स चोरी, वैध किराएदार होने का सबूत मांग सकता है आयकर विभाग

author image
Updated on 5 Apr, 2017 at 7:08 pm

Advertisement

आमतौर पर लोग टैक्स चोरी के लिए फर्जी रेन्ट रसीद का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन टैक्स चोरी करने का यह तरीका अधिक दिनों तक वैध नहीं रहेगा। आयकर विभाग अब करदाता के वैध किराएदार होने का सबूत मांग सकता है।

माना जाता है कि फर्जी रेन्ट रसीदें देने वाले सैलरीड कर्मचारी के पास कोई जरूरी दस्तावेज नहीं होता। कई बार कर्मचारी अपने पुश्तैनी घर में रहते हुए भी किसी रिश्तेदार या पिता या माता के दस्तख्वत वाली रसीदें दिखाकर टैक्स बचा लेता है।


Advertisement

मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि आयकर विभाग अब रेन्ट रसीद के अलावा मकान मालिक का बिजली बिल, टेलीफोन बिल या फिर रेन्ट एग्रीमेन्ट मांग सकता है। ऐसे में अब नियोक्ता की भी जिम्मेदारी बनेगी कि वे अपने कर्मचारियों से सही कागजात लें।

टैक्स चोरी रोकने के लिए सरकार अब तकनीक और सख्त रिपोर्टिंग सिस्टम बनाने पर विचार कर रही है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement