जब रेखा की सास ने किया उनका चप्पलों से स्वागत!

author image
1:29 pm 10 Oct, 2018

Advertisement

‘इन आंखों की मस्ती के दीवाने हज़ारों हैं…’ बॉलीवुड की महान अदाकारा रेखा आज 64 साल की हो गईं है। आज भी रेखा के चेहरे का नूर  बरकरार है जो पहले हुआ करता था। दशकों में न जानें कितने सितारे आते हैं और गर्दिश में चले जाते हैं। मगर कुछ ऐसे भी होते हैं जो लोगों के दिलों में राज करते हैं, जिनके फन से सिनेमा और चमकदार बन जाता है। ऐसी ही शख्सियत हैं रेखा। उम्र बढ़ रही है जमाना करवट ले रहा है, मगर रेखा की खूबसूरती अब भी वैसे ही बरकरार है।

 

rekha mother in law anf her marriage - रेखा का लव अफेयर

 


Advertisement

 

रेखा ने अपनी जिंदगी में कई उतार-चढ़ाव देखे हैं। उनकी लाइफ़ पर राइटर यासीर उस्मान ने किताब लिखी है, जिसका नाम है ‘रेखा: एन अनटोल्ड स्टोरी’। इस किताब में रेखा की लाइफ़ से जुड़े कई किस्से पढ़ने को मिलते हैं।

 

 

ऐसा ही एक किस्सा जुड़ा है रेखा की शादी का। रेखा के हवाले से किताब में लिखा है जब रेखा और विनोद कोलकाता में शादी करने के बाद मुंबई लौटे तो रेखा की सास कमला ने नई नवेली दुल्हन का स्वागत चप्पल से किया गया। उन्हें घर के अन्दर घुसने ही नहीं दिया।

 

rekha mother-In-law does not like her - रेखा की सास उन्हें पसंद नहीं करती थी

रेखा आगे बढ़कर अपनी सास का पैर छूने के लिए झुकी, लेकिन सास कमला ने पीछे हटते हुए रेखा को धक्का दे दिया। उन्होंने अपने घर में रेखा को घुसने से मना कर दिया। कुछ समय में रेखा की सास ने अपना परा खो दिया और रेखा को गालियां देने लगीं।

 



 

ये सब देखकर रेखा बेहद दुखी हो गई। दरवाजे पर खड़े विनोद मेहरा ने जब अपनी मां को समझाने की कोशिश की तो कमला ने अपनी चप्पल उठाई और रेखा को मारने के लिए दौड़ीं।

 

 

कहा जाता है कमला को रेखा के अतीत के बारे में पता था कि वह बिन-ब्याही मां की बेटी हैं। इसलिए कमला ने रेखा को घर में घुसने ही नहीं दिया। ऐसे में विनोद मेहरा भी कुछ कर नहीं पाए और यह रिश्ता टूट गया।

 

हालांकि, रेखा और विनोद मेहरा की शादी का कोई सबूत नहीं है। दोनों ने कभी भी अपने रिश्ते को स्वीकारा  भी नहीं। कहा जाता है कि एक बार विनोद मेहरा पर शादी का दवाब डालने के लिए रेखा ने कॉकरोच मारने की दवा भी खा ली थी। जिसके बाद काफी हंगामा हो गया था। वहीं एक इंटरव्यू में रेखा ने शादी की ख़बर को अफवाह बताते हुए विनोद मेहरा को अपना शुभचिंतक बताया था।

 

 

ऐसे ही कई दर्दनाक किस्सों का जिक्र इस किताब में किया गया है। लेकिन सोचने वाली बात ये है कि इन सब परेशानियों को झेलने के बाद भी रेखा ने हार नहीं मानी। उन्होंने अपना हौसला बनाए रखा और कामयाबी के उस स्तर पर गईं जहां हर एक्ट्रेस पहुंचने का सपना देखती है। बॉलीवुड की इस ऑलटाइम फेवरेट डीवा के लिए लोगों में दीवानगी आज भी बरकरार है।

 

Rekha mother in law welcomes her with slippers - रेखा की सास चप्पलों से किया सौगात


Advertisement

Tags

आपके विचार


  • Advertisement