प्लेन से 6 घंटे की यात्रा कर पहुंचता है रोज ऑफिस

Updated on 15 Jul, 2017 at 11:58 am

Advertisement

सुबह होते ही लोग कार्यालय जाने की तैयारी में लगते हैं। भागमभाग, ट्रैफिक आदि का सामना करते हुए देर-सबेर ऑफिस पहुंचना रोजमर्रा का काम है। लेकिन क्या आप जरा सोचिए कि रोज 6 घंटे की यात्रा कर ऑफिस पहुंचना हो तो क्या हो, वो भी प्लेन से!

जी हां, कर्ट वोन हर दिन 6 घंटे की यात्रा कर ऑफिस पहुंचते हैं। मैकेनिकल इंजीनियर कर्ट वोन बडिन्स्की जो सैन फ्रांसिस्को स्थित एक टेक कंपनी के सह-संस्थापक हैं, रोज प्लेन से ऑफिस पहुंचते हैं।

कर्ट सुबह साढ़े पांच बजे जागते हैं। वह बॉब होप बर्रबैंक एयरपोर्ट 15 मिनट ड्राइव करके पहुंचते हैं। इसके बाद उन्हें फ्लाइट से ओकलैंड जाने में 90 मिनट का वक़्त लगता है। हर महीने डेढ़ लाख रुपए (2,300 डॉलर) के किराए पर कर्ट सिंगल-इंजिन टर्बोप्रोप एयरप्लेन की असीमित सेवा हासिल करते हैं।

प्लेन में बैठते ही वे अपना काम शुरू कर देते हैं। कर्ट वोन ने सैन फ्रांसिस्को में आवाजाही के लिए ओकलैंड एयरपोर्ट पर एक कार रखी है। यह कार बिजली से चलती है। वोन साढ़े आठ बजे ऑफिस पहुंच जाते हैं और शाम में पांच बजे फ्री हो जाते हैं। शाम के पांच बजे ट्रैफिक का वक़्त होता है और वोन भी तब अपनी कार से ओकलैंड एयरपोर्ट के लिए रवाना होते हैं।

ओकलैंड एयरपोर्ट पर वोन 19:15 बजे फ्लाइट पकड़ लेते हैं। कर्ट वोन का घर बर्रबैंक में है और वह रात में नौ बजे पहुंच जाते हैं। उनका कहना है कि वे छह घंटे की यात्रा के औचित्य को समझते हैं, इसी समय वे कई जरूरी काम कर लेते हैं।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement