अगर रावण की ये अधूरी इच्छाएं पूरी हो जाती, तो पृथ्वी का विनाश निश्चित था

Updated on 19 Oct, 2018 at 1:02 pm

Advertisement

हर किसी को आज शाम रावण दहन का इंतज़ार है, यकीनन आपको भी होगा। आज यानी 19 अक्टूबर को विजयदशमी का त्योहार मनाया जा रहा है। देश में इस त्योहार को बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है। पुराणों में इस बात का उल्लेख है आज ही के दिन मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम ने रावण का वध किया था। वैसे तो रावण के बारे में बहुत से लोगों को पता है। लेकिन शायद कम ही लोग जानते हैं रावण के कुछ अधूरे सपने भी थे। आइए एक नज़र डालते हैं रावण के कुछ ऐसे ही अधूरे सपनों पर।

काले रंग को गोरा करना

रावण का रंग काला था। इसलिए उसका यह सपना था पूरी मानव जाती के रंग को सफ़ेद कर दिया जाए, जिससे कोई भी महिला पुरुष का अपमान न कर सके।

सोने में खुशबू लाना

सभी जानते हैं रावण की लंका सोने से बनी थी। वो दुनियाभर का सोना पाना चाहता था। इसलिए वो चाहता था सोने में सुगंध डाल दी जाए, ताकि उसे खोजने में किसी तरह की दिक्कत न हो।


Advertisement

स्वर्ग की सीढ़ी

रावण एक ऐसी सीढ़ी बनाना चाहता था, जिससे स्वर्ग तक पहुंचा जा सके। ऐसा करने के पीछे उसका इरादा था लोग भगवान के बजाए स्वर्ग पहुंचने के लिए उसकी आराधना करें।

बाली को हराने का सपना

रावण एक पराक्रमी योद्धा था, लेकिन उसे कई युद्ध में हार का सामना भी करना पड़ा। युद्ध में रावण का सामना कई बार बाली से हुआ था, लेकिन रावण को हमेशा मुंह की खानी पड़ी थी। बाली ने रावण को पराजित कर उसे समुद्र की परिक्रमा कराई थी। इसलिए रावण बाली को हराना चाहता था।

खून के रंग को करना चाहता था सफ़ेद

रावण ने युद्ध में अनेक निर्दोष लोगों का खून बहाया था। इस खून की वजह से धरती का रंग लाल हो गया था। रावण चाहता था खून के रंग को सफ़ेद कर दिया जाए, ताकि वो पानी में मिलकर उसके गुनाहों को छिपा दे।

मदिरा से दुर्गंध दूर करना चाहता था 

रावण मदिरा का काफ़ी शौकीन था। वो चाहता था मदिरा से दुर्गंध को दूर कर दिया जाए। मगर रावण का यह सपना कभी पूरा नहीं हो सका।

रावण के अधूरे सपने - Insatiable Demands OF Ravana

wp


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement