रतन टाटा ने ऐसा नहीं कहा कि वह JNU के छात्रों को नौकरी नहीं देंगे

author image
Updated on 16 Feb, 2016 at 11:28 am

Advertisement

रतन टाटा को आम तौर पर देशभक्त व्यवसायी के रूप में जाना जाता है, लेकिन उन्होंने सोचा भी नहीं होगा कि उनका नाम किसी विवाद में घसीट लिया जाएगा।

सोमवार से फेसबुक और ट्वीटर पर टाटा समूह को लेकर दावे-प्रतिदावे किए जा रहे हैं।

 

रतन टाटा के फोटो के साथ उनका “कथित बयान” वायरल हो रहा है, जिसमें यह कहा जा रहा है कि यह व्यवसायिक घराना अब जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्रों की नियुक्ति नहीं करेगा।

हालांकि, टाटा समूह ने सोशल मीडिया में शेयर किए जा रहे उन दावों का खंडन किया है।

नई दिल्ली स्थित JNU के घटनाक्रमों लेकर बढ़ते विवादों के बीच टाटा समूह इस बात से इन्कार किया है कि रतन टाटा ने मुंबई के मेक इन इंडिया के सत्र में कहा कि टाटा समूह जेएनयू के किसी छात्र की सेवा नहीं लेगा।

एक ट्वीट का जवाब देते हुए टाटा समूह ने सोमवार देर शाम अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर कहा, ‘‘श्री टाटा ने ऐसा कोई बयान नहीं दिया है।’’

इस वाकये से यह साबित होता है कि सोशल मीडिया पर ऐसे लोगों की कमी नहीं जो अफवाह फैलाने का काम करते हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement