मौत की कगार पर पहुंच चुके 9 घोड़ों को गोद लिया एक्टर रणदीप हूडा ने

author image
Updated on 19 Jan, 2016 at 12:24 pm

Advertisement

बॉलीवुड अभिनेता रणदीप हूडा ने मौत की कगार पर पहुंच चुके 9 घोड़ों को गोद लिया है और ये अब गुड़गांव स्थित एक फार्महाउस में रह रहे हैं। बताया गया है कि ये घोड़े पिछले कई सालों से जीवन-मौत के बीच झूल रहे थे। इन्हें एक एनजीओ की मदद से बचाया जा सका था और अब इनकी बेहतर देखभाल की जा रही है।

रणदीप हूडा कहते हैंः

“मुझे इन घोड़ों के बारे में समाचार रिपोर्ट के जरिए पता चला था। ये अलीगढ़ के एक फार्म में बुरी हालत में जी रहे थे। इनकी हालत वाकई खराब थी, इसलिए मैनें इन्हें गोद लेने का फैसला किया। जिस तरह मनुष्य कठिन परिश्रम की बदौलत पैसे कमाकर अपना जीवन स्वाभिमान से व्यतीत करता है। ठीक इसी तरह ये घोड़े भी रेसिंग में हिस्सा लेंगे और स्वाभिमान की जिन्दगी जीएंगे।”

बताया गया है कि भूख की वजह से ये घोड़े फार्म में मौजूद प्लास्टर और कूड़ा खाने लगे थे। वर्ष 2013 के दिसम्बर महीने में फ्रेन्डीकोस नामक एक एनजीओ को यहां मौजूद 49 घोड़ों के बारे में पता चला। बाद में ये घोड़े गुड़गांव के एक फार्म में लाए गए। एनजीओ के अधिकारियों ने इनका इलाज शुरू किया। लेकिन 7 घोड़ों को नहीं बचाया जा सका, जो अलग-अलग बीमारियों का शिकार हो गए थे। करीब 2 साल में और 18 घोड़ों की मौत हो गई। अब 24 घोड़े बचे हैं।

रणदीप हूडा का कहना है कि वे इन घोड़ों को पहले ही गोद लेना चाहते थे, लेकिन उनके पास बेहतर जगह नहीं थी। हूडा ने अब गुड़गांव में एक फार्म हाउस खरीदा है, जहां उन्होंने एक पोलो क्लब खोला है। इस फार्म हाउस पर करीब 40 उन्नत नस्ल के घोड़े हैं।

इस बीच, फ्रेन्डीकोस की चेयरपर्सन गीता सेशमानी कहती हैंः

“यह देखकर अच्छा लग रहा है कि रणदीप हूडा जैसी जानी-मानी शख्सियत जानवरों की देखभाल के लिए आगे आ रहे हैं। इससे पहले हमने करीब 400 भालुओं को बचाया था, जो अब आगरा, पुरुलिया और बेंगलूरू के अलग-अलग राहत और बचाव केन्द्रों पर हैं। यही नहीं, हमने 11 हाथी और एक चीते को भी बचाया है।”

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement