“गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाए, गोहत्या के मामले में हो आजीवान कारावास का प्रावधान”

author image
Updated on 1 Jun, 2017 at 5:25 pm

Advertisement

राजस्थान हाई कोर्ट ने सरकार से कहा है कि गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाए, साथ ही गोहत्या के मामले में आजीवान कारावास की सजा का प्रावधान हो।

राजस्थान हाई कोर्ट ने यह सिफारिश हिंगोनिया गौशाला में गायों की मौतों के मामले पर सुनवाई करते हुए दी है। यह ऐतिहासिक फैसला जज महेश शर्मा ने सुनाया है।


Advertisement

हाई कोर्ट ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे प्रत्येक तीन महीने में गौशालाओं पर रिपोर्ट तैयार करें। साथ ही उन्हें प्रत्येक महीने दौरा कर हालाज का जायजा लेने के लिए कहा गया है।



क्या है मामला

राजस्थान की राजधानी जयपुर से करीब 35 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हिंगोनिया गौशाला में 500 गायों के मरने की खबर मिली थी। इस मामले पर राज्य की भाजपा सरकार को काफी किरकिरी का सामना करना पड़ा था।

गोहत्या पर देशभर में बहस

इन दिनों गोहत्या पर देशभर में बहस छिड़ी हुई है। हाई कोर्ट का यह फैसला हाल ही में पशु मंडियों में वध के लिए जानवरों की खरीद-बिक्री पर केंद्र सरकार के प्रतिबंध के मद्देनजर बेहद अहम माना जा रहा है। हाल ही में कथित गोरक्षकों द्वारा की जा रही हिंसा की कई घटनाएं भी देखने को मिली हैं। वहीं, कल ही मद्रास हाई कोर्ट ने केंद्र सरकार के फैसले पर चार हफ्ते की रोक लगा दी है।

केन्द्र सरकार का विरोध

पशु मंडियों में वध के लिए जानवरों की खरीद-बिक्री पर केंद्र सरकार के प्रतिबंध का देशभर में विरोध हो रहा है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इसे असंवैधानिक बताया है। वहीं, दूसरी तरफ केरल में कांग्रेस पार्टी के समर्थकों ने सार्वजनिक रूप से एक बछड़े को काट बीफ फेस्ट मनाया था।

इसी तरह के बीफ फेस्टिवल का आयोजन आईआईटी चेन्नै में भी किया गया। यहां आयोजकों के साथ मारपीट की भी खबर है।

indianexpress


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement