भारतीय सांस्कृतिक चेतना में नई जान फूंकने वाले रबीन्द्रनाथ की ये उक्तियां आज भी प्रासंगिक हैं

author image
Updated on 7 Aug, 2016 at 3:59 pm

Advertisement

रबीन्द्रनाथ ठाकुर ने बांग्ला साहित्य के माध्यम से भारतीय सांस्कृतिक चेतना में नयी जान फूंकी थी। भारतीय साहित्य के एकमात्र नोबेल पुरस्कार विजेता रबीन्द्रनाथ महान युगदृष्टा थे। उनकी ये 10 उक्तियां आज भी प्रासंगिक हैं।

1.

0001

2.

0002

3.

0003

4.

0004

5.

0005

6.


Advertisement

0006

7.

0007

8.

0008

9.

0009

10.

00010

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement