16 प्रकाश वर्ष दूर यह ग्रह बन सकता है धरती का विकल्प !

Updated on 20 Aug, 2017 at 2:05 pm

Advertisement

धरती को हम इंसानों ने रहने लायक नहीं छोड़ा है। वो दिन दूर नहीं जब इंसानों को ब्रह्माण्ड में नया आशियाना ढूंढना पड़ सकता है। प्रकृति के दोहन से लेकर देश के आपसी मतभेदों के चलते धरती खतरे से जूझ रही है। लिहाजा वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में मनुष्य जीवन के लिए अनुकूल ग्रह की खोज शुरू कर दी है।

वैज्ञानिक क्रिस्टोफ़र नोलन ने 2014 में ही बता दिया था कि अगर हमारी धरती स्थिति ऐसी ही रही तो हमें पृथ्वी का विकल्प खोजना पड़ेगा। बन रहे विश्वयुद्ध के हालात और परमाणु हमले की संभावना सहित दुनिया की आबादी, ग्लोबल वार्मिंग जैसे खतरे धरती के ऊपर मंडरा रहे हैं। इसलिए वैज्ञानिकों ने दूसरा ऐसा ग्रह खोजना शुरू कर दिया है, जहां लोगों को बसाया जा सके।

india.com


Advertisement

यूनिवर्सिटी ऑफ टैक्सास के अंतरिक्ष वैज्ञानिकों का मानना है कि धरती जैसा ही एक ग्रह मात्र 16 प्रकाश वर्ष दूर एक स्टार सिस्टम में मौजूद हो सकता है। इस दिशा में अनुसंधान जारी है। अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के इस दल में एक भारतीय वैज्ञानिक भी शामिल है।

वैज्ञानिकों ने स्टार सिस्टम ग्लीस 832 की जांच की। हमारे सोलर सिस्टम से बाहर एलियन वर्ल्ड में एक ऐसे ग्रह की जांच शुरू की गई, जहां जीवन की संभावना हो सकती है। इस स्टार से 0.25 से लेकर 2.0 एस्ट्रोनॉमिकल यूनिट की दूरी पर पृथ्वी की तरह एक ग्रह देखा गया है, जिसका विन्यास पृथ्वी से मिलता-जुलता है।



यूनिवर्सिटी ऑफ टैक्सास में फ़िजिक्स रिसर्चर सुमन सात्याल के अनुसार-

“इस ग्रह का घन पृथ्वी की तुलना में 15 गुना ज़्यादा हो सकता है। ऐसा अनुमान लगाया गया है कि यह सितारा पिछले 1 अरब सालों से स्थायी तौर पर अपनी कक्षा में परिक्रमा कर रहा है। प्रकाश की गति जितना तेज यन्त्र उपलब्ध होने से, शोध की दिशा में तेजी से बढ़ा जा सकता है।”

ग्लीस 832 एक छोटा तारा है, जो सूरज की तुलना में ठंडा है। यह ग्लीस 832सी की परिक्रमा कर रहा है। नए गृह की तलाश करते हुए ग्लीस 832बी और ग्लीस 832सी में रेडियल वेलोसिटी तकनीक का इस्तेमाल हुआ है, जो सेंट्रल स्टार की रफ्तार में होने वाले बदलावों को दिखाती है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement