Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

16 प्रकाश वर्ष दूर यह ग्रह बन सकता है धरती का विकल्प !

Published on 20 August, 2017 at 1:47 pm By

धरती को हम इंसानों ने रहने लायक नहीं छोड़ा है। वो दिन दूर नहीं जब इंसानों को ब्रह्माण्ड में नया आशियाना ढूंढना पड़ सकता है। प्रकृति के दोहन से लेकर देश के आपसी मतभेदों के चलते धरती खतरे से जूझ रही है। लिहाजा वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में मनुष्य जीवन के लिए अनुकूल ग्रह की खोज शुरू कर दी है।


Advertisement

वैज्ञानिक क्रिस्टोफ़र नोलन ने 2014 में ही बता दिया था कि अगर हमारी धरती स्थिति ऐसी ही रही तो हमें पृथ्वी का विकल्प खोजना पड़ेगा। बन रहे विश्वयुद्ध के हालात और परमाणु हमले की संभावना सहित दुनिया की आबादी, ग्लोबल वार्मिंग जैसे खतरे धरती के ऊपर मंडरा रहे हैं। इसलिए वैज्ञानिकों ने दूसरा ऐसा ग्रह खोजना शुरू कर दिया है, जहां लोगों को बसाया जा सके।

यूनिवर्सिटी ऑफ टैक्सास के अंतरिक्ष वैज्ञानिकों का मानना है कि धरती जैसा ही एक ग्रह मात्र 16 प्रकाश वर्ष दूर एक स्टार सिस्टम में मौजूद हो सकता है। इस दिशा में अनुसंधान जारी है। अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के इस दल में एक भारतीय वैज्ञानिक भी शामिल है।



वैज्ञानिकों ने स्टार सिस्टम ग्लीस 832 की जांच की। हमारे सोलर सिस्टम से बाहर एलियन वर्ल्ड में एक ऐसे ग्रह की जांच शुरू की गई, जहां जीवन की संभावना हो सकती है। इस स्टार से 0.25 से लेकर 2.0 एस्ट्रोनॉमिकल यूनिट की दूरी पर पृथ्वी की तरह एक ग्रह देखा गया है, जिसका विन्यास पृथ्वी से मिलता-जुलता है।

यूनिवर्सिटी ऑफ टैक्सास में फ़िजिक्स रिसर्चर सुमन सात्याल के अनुसार-

“इस ग्रह का घन पृथ्वी की तुलना में 15 गुना ज़्यादा हो सकता है। ऐसा अनुमान लगाया गया है कि यह सितारा पिछले 1 अरब सालों से स्थायी तौर पर अपनी कक्षा में परिक्रमा कर रहा है। प्रकाश की गति जितना तेज यन्त्र उपलब्ध होने से, शोध की दिशा में तेजी से बढ़ा जा सकता है।”


Advertisement

ग्लीस 832 एक छोटा तारा है, जो सूरज की तुलना में ठंडा है। यह ग्लीस 832सी की परिक्रमा कर रहा है। नए गृह की तलाश करते हुए ग्लीस 832बी और ग्लीस 832सी में रेडियल वेलोसिटी तकनीक का इस्तेमाल हुआ है, जो सेंट्रल स्टार की रफ्तार में होने वाले बदलावों को दिखाती है।

Advertisement

नई कहानियां

G-spot को भूल जाइए, ऑर्गेज़्म के लिए अब फ़ोकस करिए A-spot पर!

G-spot को भूल जाइए, ऑर्गेज़्म के लिए अब फ़ोकस करिए A-spot पर!


Eva Ekeblad: जिनकी आलू से की गई अनोखी खोज ने, कई लोगों का पेट भरा

Eva Ekeblad: जिनकी आलू से की गई अनोखी खोज ने, कई लोगों का पेट भरा


Charles Macintosh ने किया था रेनकोट का आविष्कार, कभी किया करते थे क्लर्क की नौकरी

Charles Macintosh ने किया था रेनकोट का आविष्कार, कभी किया करते थे क्लर्क की नौकरी


जानिए क्या है Google’s Birthday Surprise Spinner, बच्चों से लेकर बड़ों में है इसका क्रेज़

जानिए क्या है Google’s Birthday Surprise Spinner, बच्चों से लेकर बड़ों में है इसका क्रेज़


क्या Clash of Clans के बारे में पहले कभी सुना है? जानिए इसके बारे में सबकुछ

क्या Clash of Clans के बारे में पहले कभी सुना है? जानिए इसके बारे में सबकुछ


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें News

नेट पर पॉप्युलर