Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

ओलंपिक रजत पदक विजेता सिन्धु का जोरदार स्वागत, निकाला विजय जुलूस

Published on 22 August, 2016 at 1:04 pm By

रियो ओलंपिक में भारत की रजत पदक विजेता बैडमिन्टर खिलाड़ी पीवी सिन्धु का जोरदार स्वागत किया गया। इस अवसर पर एक विजय जुलूस भी निकाला गया। इस दौरान सिन्धु एक ओपन डबल डेकर बस पर सवार थी। उनके साथ कोच पुलेला गोपीचंद भी थे।

इससे पहले हैदराबाद एयरपोर्ट पर सिन्धु और उनके कोच का शानदार स्वागत किया गया। उन फुलों और गुलदस्तों की बारिश की गई।

सिन्धु को लेकर यह बस गच्चीबोवली के जीएमसी स्टेडियम तक जाएगी। स्टेडियम में उन्हें सम्मानित किए जाने का कार्यक्रम रखा गया है। यहां सुरक्षा के कड़े इन्तजाम किए गए हैं। तेलंगाना के सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री केटी रामा राव वरिष्ठ अधिकारियों के साथ इस भव्य स्वागत की अगुवाई कर रहे हैं।

गौरतलब है कि तेलंगाना सरकार ने सिन्धु को पांच करोड़ रुपए नकद पुरस्कार देने की घोषणा की है। राज्य के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव ने कहा है कि सिन्धु को पुलेला गोपीचंद बैडमिंटन अकादमी के निकट 1,000 वर्ग गज का प्लॉट भी दिया जाए। यही नहीं, उनके इच्छुक होने की स्थिति में उन्हें उचित सरकारी नौकरी भी दी जाएगी।

साक्षी पहुंचेंगी मंगलवार को


Advertisement

इस बीच, ओलंंपिक में फ्रीस्टाइल कुश्ती में कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक मंगलवार को भारत पहुंचेंगी। साक्षी रियो ओलंपिक के समापन समारोह में भारत की ध्वजवाहक थीं।

Advertisement

नई कहानियां

Tamilrockers पर लीक हुई ‘छिछोरे’, देखने के साथ फ्री में डाउनलोड कर रहे लोग

Tamilrockers पर लीक हुई ‘छिछोरे’, देखने के साथ फ्री में डाउनलोड कर रहे लोग


Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!


जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका

जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका


प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें


ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं

ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें News

नेट पर पॉप्युलर