Advertisement

इस ईमानदार ट्रेनी IAS अधिकारी का ट्रांस्फर रुकवाने के लिए सड़कों पर उतर आई जनता

5:21 pm 15 Dec, 2017

Advertisement

कहते है न ईमानदारी को कुछ लोग चाहे जितना भी दबाने या कुचलने की कोशिश करें, लेकिन आखिर में जीत उसी की होती है।

 

इलाहाबाद में एक ऐसा ही वाकया हुआ जब एक ईमानदार अधिकारी का ट्रांस्फर रुकवाने के लिए शहर के लोग सड़कों पर उतर आए।

 

 

भले ही सुनने में आपको फिल्मी कहानी लग रही हो, मगर ये सच है।

 

 

एक ट्रेनी आईएस ऑफिसर ने अपनी ईमानदारी से लोगों के दिल में अपने लिए ऐसी जगह बनाई कि लोग उसके हक के लिए एक साथ खड़े हो गए।

 

हम बात कर रहे हैं ट्रेनी आईएएस अफसर राजा गणपति आर की। इलाहाबाद में सिर्फ़ 55 दिनों में ही उन्होंने ऐसा काम किया कि वहां की जनता के लिए वह हीरो बन गए।

 

 

राजा गणपति आर इलाहाबाद की करछना तहसील के एसडीएम हैं। अपने काम के अनोखे तरीके और ईमानदारी की वजह से वो लोगों के बीच बहुत पॉप्युलर हैं और लोग उनकी इज्जत करते हैं।

 

इस अधिकारी की पोस्टिंग की खबर सुनते ही जनता गुस्से में सड़क पर जमा हो गई और तबादला वापस लेने की मांग करने लगी।

 


Advertisement

 

लोगों के गुस्से को देखकर एक दिन के भीतर ही उप मुख्यमंत्री को बीच में आकर अधिकारी की पोस्टिंग रोकनी पड़ी।

 

जनता का अपने प्रति ये प्यार देखकर एसडीएम भावुक हो गए और कहा कि वो जनता की भावनाओं और विश्वास का सम्मान करते हैं और आगे भी उनकी उम्मीदों पर खरा उतरने की पूरी कोशिश करेंगे।

 

 

राजा गणपति ने गवर्मेंट कॉलेज चेन्नई से एमबीबीएस किया है। वह 2015 बैच के आईएएस अधिकारी हैं। उन्होंने पहली बार में ही यूपीएससी की परीक्षा पास कर ली थी।

 

 17 नवंबर, 2017 को उनकी तैनाती इलाहाबाद जिले के करछना तहसील में हुई। यहां उन्होंने दीवारों पर पान खाकर थूकने वालों पर नकेल कसी, अपने इसी काम के कारण वो चर्चा में आए।

 

facebook

 

इसके अलावा अवैध खनन और बालू माफियाओं के खिलाफ भी राजा गणपति ने कार्रवाई की। वह सुबह के नौ बजे से लेकर रात नौ बजे तक काम करते हैं। उन्होंने कई ज़मीन घोटालों को भी सामने रखा।

 

राजा के ट्रांस्फर पर डीएम जिलाधिकारी सुहास एलवाई का कहना है कि यह प्रशासनिक प्रक्रिया है, लेकिन जनता की भावनाओं का ख्याल रखते हुए राजा का तबादला निरस्त करना पड़ा। ये वाकया अपने आप में बहुत खास हैं क्योंकि आजतक शायद ही आपने ऐसा कहीं देखा होगा।

 

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement