उत्तराखंड में सियासी संकट के बीच राष्ट्रपति शासन लागू

author image
Updated on 27 Mar, 2016 at 7:10 pm

Advertisement

उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया गया है। राज्य में सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी के 9 विधायकों के बागी होने के बाद ये हालात बने हैं। बताया गया है कि बागी विधायक मुख्यमंत्री हरीश रावत के कामकाज से नाराज थे।

उनका आरोप है कि सरकार में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार हो रहा है और राज्य बर्बादी की तरफ जा रहा है।

इससे पहले बागी विधायकों ने रविवार को मुख्यमंत्री हरीश रावत के खिलाफ एक स्टिंग विडियो जारी किया था। इस विडियो में मुख्यमंत्री और एक व्यक्ति के बीच पैसे के लेन-देन की बातचीत होने का दावा किया जा रहा है।


Advertisement

इस बीच, मुख्यमंत्री हरीश रावत ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने की घटना को संविधान और लोकतंत्र की हत्या कहा है। उन्होंने आरोप लगाया है कि केन्द्र सरकार ने राज्य में दलबदल करवाया है और वह इस मुद्दे को लेकर जनता के बीच जाएंगे।

उत्तराखंड में सियासी संकट के जानकारों का कहना है कि कांग्रेसी विधायकों की बगावत में विजय बहुगुणा का रोल अहम हो सकता है। वह लंबे समय से पार्टी में बड़ी जिम्मेदारी की मांग करते आ रहे हैं, लेकिन हरीश रावत के खेमे को वह पसंद नहीं हैं।

गौरतलब है कि बहुगुणा रावत को मुख्यमंत्री बनाने को लेकर कई बार अपनी नाराजगी का खुलकर इजहार कर चुके हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement