शोध: आलू से बनाई जा सकती है बैटरी जो जलाएगा 40 दिन तक आपका बल्ब

author image
Updated on 3 Jan, 2017 at 5:01 pm

Advertisement

क्या हमने कभी सोचा है कि अमूमन हमारे खाने की थाली में दिखने वाला साधारण सा आलू उर्जा का एक बेहतर विकल्प हो सकता है। यहां ऊर्जा का बेहतर विकल्प से मतलब प्राप्त संसाधनों से कम लागत में उर्जा या बिजली प्राप्त करना है। हाल ही में किए गए एक शोध से पता चला है कि बल्ब जलाने और घरों को रोशन करने के लिए बिजली ग्रिड की जगह आलू का इस्तेमाल संभव होने के साथ ही कारगर भी है।

येरुशलम की हिब्रू यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता राबिनोविच और उनके सहयोगी द्वारा किए गए शोध के बाद इस नतीज़े पर पहुंचा जा सका है कि एक आलू की मदद से 40 दिन तक बल्ब जलाया जा सकता है।

इस तकनीकी में आलू, सस्ती धातु की प्लेट्स, तारों और एलईडी बल्ब का इस्तेमाल हुआ है। राबिनोविच का ऐसा दावा है कि एक आलू चालीस दिनों तक एलईडी बल्ब को जला सकता है। राबिनोविच इस शोध के संबंध में बताते हैं कि यह तकनीक आमतौर पर बैटरी पर इस्तेमाल होने वाले सिद्धांत पर कार्य करती है।

आमतौर पर इस्तेमाल होने वाली बैटरी से लगभग 50 गुना सस्ती है आलू से बिजली पैदा करने की तकनीक।

वर्ष 2010 में राबिनोविच ने कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के एलेक्स गोल्डबर्ग और बोरिस रुबिंस्की के साथ मिलकर एक शोध किया और इस नतीज़े पर पहुंचे कि आलू का इस्तेमाल उर्जा का एक बेहतर विकल्प हो सकता है। गोल्डबर्ग बताते हैंः


Advertisement

“हमने 20 अलग-अलग तरह के आलू देखे और उनके आतंरिक प्रतिरोध की जांच की। इससे हमें यह समझने में मदद मिली कि गरम होने से कितनी ऊर्जा नष्ट हुई।”

क्या कहती है आलू पर शोध की विशेष रिपोर्ट

आलू को आठ मिनट उबालने से आलू के अंदर कार्बनिक ऊतक टूटने लगे, प्रतिरोध कम हुआ और इलेक्ट्रॉन्स ज़्यादा मूवमेंट करने लगे। इससे अधिक ऊर्जा बनी। आलू को चार-पांच टुकड़ों में काटकर इन्हें तांबे और ज़िंक की प्लेट के बीच रखा गया। इससे ऊर्जा 10 गुना बढ़ गई यानी बिजली बनाने की लागत में कमी आई। एक आलू उबालने से पैदा हुई बिजली की लागत 9 डॉलर प्रति किलोवाट घंटा आई, जो डी-सेल बैटरी से लगभग 50 गुना सस्ती थी।

विकासशील देशों में जहां केरोसिन (मिट्टी के तेल) का इस्तेमाल अधिक होता है, वहां भी यह छह गुना सस्ती थी। राबिनोविच कहते हैंः

“इसकी वोल्टेज़ कम है, लेकिन ऐसी बैटरी बनाई जा सकती है जो मोबाइल या लैपटॉप को चार्ज कर सके।”

उर्जा के स्त्रोत के रूप में असरदार साबित हो सकता है आलू

आलू सस्ते हैं। इन्हें आसानी से स्टोर किया जा सकता है और लंबे समय तक रखा जा सकता है। प्राप्त जानकारी के अनुसार दुनिया में 120 करोड़ लोग बिजली से वंचित हैं और एक आलू उनका घर रोशन कर सकता है। हालांकि, इस शोध को अब भी देशों और उनकी सरकारों की अनुमति का इंतज़ार है, क्योंकि पहली आवश्यकता इस बात को देखने की है कि क्या खाने के लिए पर्याप्त आलू हमारे पास मौजूद हैं।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement