ओबामा को ‘गार्ड ऑफ ऑनर’ देने वाली पूजा ठाकुर भारतीय वायुसेना से नाराज, पहुंची कोर्ट

author image
Updated on 14 Jul, 2016 at 5:20 pm

Advertisement

भारतीय वायुसेना की विंग कमांडर 37 वर्षीय पूजा ठाकुर ने भारतीय वायुसेना में स्थायी कमीशन नहीं मिलने पर गुरुवार को आर्म्ड फोर्सेस ट्रिब्यूनल का दरवाजा खटखटाया है।

पूजा ठाकुर के वकील सुधांशु पांडे ने IANS से कहा: ‘आर्म्ड फोर्सेस ट्रिब्यूनल ने मामले को स्वीकार कर लिया है और चार हफ्ते के भीतर वायुसेना से जवाब मांगा गया है।’


Advertisement

राजस्थान के जयपुर की रहने वाली पूजा ठाकुर साल 2000 में भारतीय वायु सेना के एडमिनिस्ट्रेटिव ब्रांच से जुडी थीं। वह वायु सेना के दिल्ली हेडक्वार्टर में तैनात हैं।

जनवरी में इस साल की शुरुआत में पूजा ठाकुर की अगुआई में राष्ट्रपति भवन में बराक ओबामा ने गार्ड ऑफ ऑनर का मुआयना किया था। इसी के साथ, इतिहास रचते हुए राष्ट्रपति भवन में किसी राजकीय मेहमान को दिए गए गार्ड ऑफ ऑनर का नेतृत्व करने वाली पूजा ठाकुर पहली महिला अधिकारी बनीं।

विंग कमांडर ठाकुर से प्रभावित होकर अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा था: ‘गार्ड ऑफ ऑनर का नेतृत्व करने वाली महिला ऑफिसर गर्व और ताकत की मिसाल हैं।’

दरअसल, पूजा ठाकुर अगले कुछ महीने में रिटायर हो रही हैं, लेकिन, पूजा स्थायी कमीशन के साथ वायुसेना से जुड़े रहकर देश की सेवा करती रहना चाहती हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement