क्या प्रधानमंत्री मोदी वाकई में फकीर हैं? जानिए कितनी है संपत्ति

author image
11:04 am 5 Dec, 2016

Advertisement

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में मुरादाबाद में आयोजित परिवर्तन रैली के दौरान नोटबंदी का मुद्दा उठाते हुए एक बार फिर भ्रष्टाचार पर जमकर बिफरे। उन्होने रैली को संबोधित करते हुए कहाः 

‘‘हिन्दुस्तान की पाई-पाई पर अगर किसी का अधिकार है तो सवा सौ करोड़ देशवासियों का है। मैं आपके लिए लड़ाई लड़ रहा हूं। ज्यादा से ज्यादा (विरोधी) मेरा क्या कर लेंगे? हम तो फकीर आदमी हैं, झोला लेकर चल पड़ेंगे। ये फकीरी है, जिसने मुझे गरीबों के लिए लड़ने की ताकत दी है।’’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटेबंदी के मुद्दे पर विपक्ष द्वारा किए जा रहे विरोध के बाबत कुछ सवाल जनता से पूछते हुए कहाः

‘‘अगर कोई ये काम करता है तो वह गुनाहगार है क्या? कोई भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ता है, तो गुनाहगार है क्या? मैं हैरान हूं कि आजकल मेरे ही देश में कुछ लोग मुझे गुनाहगार कह रहे हैं। क्या मेरा यही गुनाह है कि भ्रष्टाचार के दिन पूरे होते जा रहे हैं? क्या यही मेरा गुनाह है कि गरीबों का हक छीनने वालों को अब हिसाब देना पड़ रहा है?’’


Advertisement

ये बातें प्रधानमंत्री मोदी ने नोटबंदी के मुद्दे पर कही है। सवाल ये है कि क्या वाकई में हमारे देश के प्रधानमंत्री फकीर हैं? आइए जानते हैं कितनी है हमारे देश के प्रधानमंत्री की संपत्ति।

बिजनेस स्टैंडर्ड की एक रिपोर्ट के मुताबिक, वित्तीय वर्ष 2014-2015 से मोदी की संपत्ति में 22.6 प्रतिशत का इज़ाफा हुआ है। पिछले एक साल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की संपत्ति में 32 लाख 22 हजार रुपए की बढ़ोतरी हुई है। अभी उनकी कुल संपत्ति 1 करोड़ 73 लाख रुपए रुपए के बराबर है, जो पिछले 2014-2015के वित्तीय वर्ष में 1 करोड़ 41 लाख के बराबर थी।

वहीं, आकड़ों के मुताबिक 2014-15 में मोदी के पास 4,700 रुपए कैश था, जो कि इस साल बढ़कर 89,700 रुपए हो गया है। इसमें भी 19 गुना इजाफा हुआ। इसके अलावा मोदी को 12.35 लाख रुपए की रॉयल्टी भी मिलने लगी है। यह सभी आंकड़े पीएमओ की वेबसाइट पर भी उपलब्ध हैं।

पीएम मोदी को अपने किताबों पर मिलती है रॉयल्टी

उपलब्ध जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री मोदी को पिछले वर्ष तक कोई रॉयल्टी नही मिलती थी। लेकिन 2015-16 में उन्हें अपनी किताबों पर रॉयल्टी मिलने लगी है। ये किताबें पीएम ने खुद लिखी हैं, जिससे 12.35 लाख रुपए रॉयल्टी आती है। पीएम मोदी की ये किताबें हिंदी, गुजराती और अंग्रेजी में छपती हैं।

पीएम मोदी के फकीर वाले बयान पर सोशल मीडिया पर लोगों ने ली चुटकी

पीएम मोदी की मुरादाबाद रैली में दिए गए भाषण के बाद ट्वीटर और अन्य सोशल मीडिया प्लॅटफॉर्म पर यूजर्स ने खूब मज़े लिए। एक यूजर्स ने ट्वीट कर तंज़ कसा कि ‘भगवान कृष्ण के दिए विमान से उतरते सुदामा।’ तो किसी ने चुनाव प्रचार के समय मोदी का हेलीकॉप्टर से हाथ हिलाते हुए उनकी फोटो शेयर करते हुए लिखा, ‘अपनी बैलगाड़ी में सवार होकर गांव की ओर जाता एक गरीब फकीर’।

वहीं, समर्थक भी पीछे न रहते हुए पीएम मोदी का विरोध करने वालों से पूछ डाला  कि ‘तुमसे ना हो पाएगा वामपंथियों। जरा बताओ तो कितनी जमीन या फ्लैट हैं इनके नाम। कितने का बैंक बैलेंस? ये फकीरी तुम क्या जानो।’

खैर इतना जो ज़रूर है पीएम मोदी के भाषण का असर हर कहीं ज़रूर पड़ता है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement