आज मोदी मिलेंगे चीन के राष्ट्रपति से, NSG पर बन सकती है बात

author image
Updated on 23 Jun, 2016 at 11:20 am

Advertisement

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज ताशकंद में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मिलने वाले हैं। माना जा रहा है कि इस मुलाकात के दौरान भारत की NSG सदस्यता पर बात बन सकती है।

दरअसल, आज ताशकंद में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के शिखर सम्मेलन से इतर दोनों राजनेता बैठक करेंगे। छह सदस्यीय एससीओ में भारत को शामिल करने का निर्णय पिछले साल रूस के उफा में हुए सम्मेलन में लिया गया था।

एससीओ एक क्षेत्रीय संगठन है जिसमें चीन, रूस और चार मध्य एशियाई गणतंत्र कजाकिस्तान, तजाकिस्तान, उज्बेकिस्तान और किर्गिस्तान शामिल हैं।

चीन के रवैए में आ सकती है तब्दीली

इस बीच माना जा रहा है कि भारत को NSG की सदस्यता पर फ्रान्स के खुलकर भारतीय समर्थन में आने से चीन के रवैए में तब्दीली आ सकती है। गौरतलब है कि चीन इस मुद्दे पर अब तक भारत का विरोध करता रहा है। चीन ने कहा है कि वह भारत, पाकिस्तान या किसी अन्य देश के लिए NSG के दरवाजे बंद नहीं करना चाहता, लेकिन इसके साथ ही उसने अमेरिका और इसके सहयोगी देशों पर कटाक्ष भी किया है।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा है कि परमाणु अप्रसार संधि (एनपीटी) पर हस्ताक्षर नहीं करने वाले किसी भी देश को एनएसजी में शामिल नहीं करने के नियम तो अमेरिका ने ही तय किए थे।

गौरतलब है कि अमेरिका अपने द्वारा बनाए गए इस नियम को दरकिनार करते हुए सभी सदस्य देशों से आग्रह कर रहा है कि वे भारत को NSG में शामिल करें।

हाल ही में प्रधानमंत्री मोदी ने इस मुद्दे पर अमेरिका, स्विटजरलैन्ड, मैक्सिको, न्यूजीलैन्ड और फ्रान्स सरीखे देशों का समर्थन हासिल कर लिया है।

लेकिन चीन, तुर्की, आयरलैंड, दक्षिण अफ्रीका, आस्ट्रिया अभी भी भारत के पक्ष में नहीं हैं।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement