Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

अगर हम जागरूक नहीं हुए तो समन्दर में मछलियों से अधिक होगा कचरा

Published on 21 January, 2017 at 10:44 am By

अगर हम जागरूक नहीं हुए तो वह दिन दूर नहीं, जब समन्दर में मछलियों से अधिक कचरा होगा। जी हां, दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम तथा एलेन मैकर्थर फाउन्डेशन की एक नई रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्ष 2050 तक समुद्र में मछलियों से अधिक प्लास्टिक की वस्तुएं होंगी।


Advertisement

इस तरह हमारे दैनंदिन काम में आने वाली चीजों मसलन प्लास्टिक की बोतले, बर्तन, बैग आदि सामान मछलियों के इर्द-गिर्द, उनके जीवन में भी व्यापक रूप से शामिल होंगी। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि वस्तुस्थिति को देखते हुए सरकारों को अविलंब रिसायकलिंग जैसी परियोजनाओं को बढ़ावा देना चाहिए, ताकि कचरे को कम से कम किया जा सके। इससे पर्यावरण को नुकसान कम से कम होगा।



रिपोर्ट के मुताबिक, प्रतिवर्ष विभिन्न देशों द्वारा करीब 8 लाख टन कचरा समन्दर में फेंका जाता है। इसका मतलब यह है कि प्रति मिनट समन्दर में एक के ट्रक के बराबर कचरा फेंका जाता है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि वर्ष 2030 तक यह रफ्तार दोगुनी होगी।


Advertisement

अगर यह रफ्तार जारी रही तो वर्ष 2025 तक हर तीन टन मछली की तुलना में एक टन प्लास्टिक का कचरा समन्दर में तैर रहा होगा।

Advertisement

नई कहानियां

WAR Full Movie Leaked Online to Download: Tamilrockers पर लीक हो गई WAR, एचडी प्रिंट डाउनलोड करके देख रहे हैं लोग!

WAR Full Movie Leaked Online to Download: Tamilrockers पर लीक हो गई WAR, एचडी प्रिंट डाउनलोड करके देख रहे हैं लोग!


Tamilrockers पर लीक हुई ‘छिछोरे’, देखने के साथ फ्री में डाउनलोड कर रहे लोग

Tamilrockers पर लीक हुई ‘छिछोरे’, देखने के साथ फ्री में डाउनलोड कर रहे लोग


Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!


जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका

जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका


प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें Nature

नेट पर पॉप्युलर