क्या आप जानते हैं विमानों की सीटों का रंग नीला ही क्यों रखा गया? इसके पीछे है दिलचस्प वजह

author image
Updated on 2 Apr, 2018 at 9:24 am

Advertisement

हवाई जहाज में सफर करते हुए क्या कभी आपने उसकी सीटों पर ध्यान दिया है? आपने कई एयरलाइन्स कंपनियों के विमानों से सफर किया होगा, लेकिन क्या आपको पता है कि अमूमन हर एयरलाइन्स की सीटें हमेशा नीली ही क्यों होती है?

 

 


Advertisement

कुछ लोग मानते हैं कि यह हमें आसमान की याद दिलाता है, इसलिए नीला रंग चुना जाता है, लेकिन असल में यह इसका कारण नहीं है।

 

 

हवाई जहाज में नीली सीट का चलन कई दशकों पहले शुरू हुआ था। ब्रिटिश वैज्ञानिकों के मुताबिक, ज्यादातर लोग नीले रंग को विश्वसनीयता और सुरक्षा का प्रतीक मानते हैं।

 

नीला रंग यात्रियों में सकारात्मक सोच का संचार करता है। अब अमूमन हर एयरलाइन्स में नीली रंग की ही सीटें देखी जाती हैं।

 



 

एक रिसर्च में ये भी सामने आया है कि 90 प्रतिशत लोग ब्रांड कलर्स के आधार पर कंपनी की सेवाओं को लेना है या नहीं, इसका चुनाव करते हैं। ऐसे में लोग नीले रंग की ओर आकर्षित होते हैं।

 

 

नीली सीटें लगाने का कारण यह भी है कि ऐसी सीटें जल्दी गंदी नहीं होती हैं। इसमें धूल, दाग-धब्बे कम नजर आते हैं, लिहाजा इन्हें लंबे वक्त के लिए इस्तेमाल में लाया जा सकता है।

 

 

बता दें कि 1970 और 1980 में कुछ एयरलाइन्स कंपनियों ने नीले रंग के बजाय लाल रंग की सीटों  का इस्तेमाल किया था, लेकिन जल्द ही उन्हें सीटों का रंग नीला ही करना पड़ा, क्योंकि लाल रंग की सीटों की वजह से यात्रियों में आक्रमकता का स्तर बढ़ा पाया गया।

 

wordpress


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement