Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

इस गांव के हर घर में बनते हैं हथियार, 9 MM की पिस्तौल से लेकर 12 बोर की बंदूकें कम कीमत पर उपलब्ध हैं

Updated on 7 March, 2019 at 3:20 pm By

कंट्री मेड पिस्तौल यानी देशी कट्टा के बारे में आप सबने सुना होगा। बिहार के मुंगेर को ऐसे अवैध हथियारों का गढ़ माना जाता था। इसे बनाने के लिए हैवी जी पाइप को भट्टी में तपाने के बाद लेथ मशीन के द्वारा मनचाहा डिजाइन और रूप दे दिया जाता है। अब यही देसी पिस्टल का निर्माण एक कुटीर उद्योग के रूप में चंबल के बीहड़ में बसे एक गांव में भयावह रूप से फल-फूल रहा है।

इस गांव में न सिर्फ पिस्तौल, बल्कि 9 एमएम की पिस्तौल से लेकर 12 बोर की बंदूकें तक बन रही हैं। ये बेहद कम कीमत पर उपलब्ध हैं।


Advertisement

भारत में 9mm पिस्तौल की कीमत

मामला संज्ञान में तब आया जब पुलिस ने पिछले तीन महीनों में हथियार सप्लाई से जुड़े कई लोगों को भिंड से गिरफ्तार किया था। पूछताछ के बाद पता चला कि ये लोग चंबल के बीहड़ों में बसे गांवों से ही हथियार लेकर आसपास के इलाक़ों के अलावा अन्य राज्यों में सप्लाइ करते थे।

रिपोर्ट के मुताबिक भिंड के माढ़हन गांव में यह अवैध धंधा वर्षों से चल रहा है। इस कार्य में लिप्त बदमाशों का ख़ौफ़ इतना है कि पुलिस आज तक गांव में छापा तक नहीं मार सकी है। यही नहीं, इन छोटे-छोटे कारखाने में कार्य कर रहे कारीगर इतने कुशल और पारंगत हो चुके हैं कि ये अत्याधुनिक पिस्तौल (pistol) बनाने में सक्षम हैं।

भारत में 9mm पिस्तौल की कीमत - Chambal

लाखों के कीमत वाले हथियार महज कुछ हज़ारों में उपलब्ध



आपको बता दें कि एक वैध विदेशी पिस्तौल या बंदूक की कीमत जहां 50 हजार से शुरू होकर लाखों तक जा सकती है, वहीं इस गांव में ये चन्द हजार में उपलब्ध हैं।

भारत में 9mm पिस्तौल की कीमत - chambal


Advertisement

पूछताछ के बाद पता चला की 9 इंच बैरल वाला देशी कट्टा मात्र 1500 रुपए से लेकर 4000 रुपए कीमत में मिल जाती है। महंगे राइफल से लेकर छोटा 18 इंच बैरल वाला हथियार, जिसे पौनी तमंचा कहा जाता है, मात्र पांच हजार रुपए में उपलब्ध है।

कोई भी विदेशी हथियार को देसी रूप देने में हैं पारंगत

भारत में 9mm पिस्तौल की कीमत - chambal
हथियार बनाने वाले कारीगरों की दक्षता का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि वे किसी भी महंगे विदेशी हथियार की हूबहू नकल करने में काबिल हैं। कीमत बेहद कम होने की वजह से इन हथियारों की अपराधियों के बीच काफ़ी मांग है। कम कीमत होने की वजह से अपराधी इन देसी हथियारों का इस्तेमाल जमकर कर रहे हैं।


Advertisement

साभार:  DB

Advertisement

नई कहानियां

इस शख्स की ओवर स्मार्टनेस देख हंसते-हंसते पेट में दर्द न हो जाए तो कहिएगा

इस शख्स की ओवर स्मार्टनेस देख हंसते-हंसते पेट में दर्द न हो जाए तो कहिएगा


मां के बताए कोड वर्ड से बच्ची ने ख़ुद को किडनैप होने से बचाया, हर पैरेंट्स के लिए सीख है ये वाकया

मां के बताए कोड वर्ड से बच्ची ने ख़ुद को किडनैप होने से बचाया, हर पैरेंट्स के लिए सीख है ये वाकया


क्रिएटीविटी की इंतहा हैं ये फ़ोटोज़, देखकर सिर चकरा जाए

क्रिएटीविटी की इंतहा हैं ये फ़ोटोज़, देखकर सिर चकरा जाए


G-spot को भूल जाइए, ऑर्गेज़्म के लिए अब फ़ोकस करिए A-spot पर!

G-spot को भूल जाइए, ऑर्गेज़्म के लिए अब फ़ोकस करिए A-spot पर!


Eva Ekeblad: जिनकी आलू से की गई अनोखी खोज ने, कई लोगों का पेट भरा

Eva Ekeblad: जिनकी आलू से की गई अनोखी खोज ने, कई लोगों का पेट भरा


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें Bizarre

नेट पर पॉप्युलर