अब पटरी पर दौड़ेगी ‘पेप्सी राजधानी’ या ‘कोक शताब्दी’

author image
Updated on 9 Jan, 2017 at 11:33 am

Advertisement

अब जल्दी ही आप ‘पेप्सी राजधानी’ या ‘कोक शताब्दी’ जैसी ट्रेनों से रूबरू हो सकेंगे। जी हां, रेल मंत्रालय किराया या रेल भाड़ा बढ़ाए बिना रेवेन्यू बढ़ाने की कोशिशों के तहत अब ट्रेन्स और स्टेशनों की ब्रान्डिंग करने जा रही है। इसके तहत ट्रेन या स्टेशन के नाम के आगे कंपनी का ब्रान्ड जुड़ जाएगा।

रेलवे अपने इस प्रोजेक्ट को लेकर पूरी तरह तैयार है। माना जा रहा है कि अगले सप्ताह रेलवे बोर्ड की बैठक में इसे मंजूरी मिल जाएगी।


Advertisement

बताया गया है कि अब कोई भी कंपनी या ब्रान्ड ट्रेन के पूरे मीडिया राइट्स खरीद लेगी। इसके बाद वह ट्रेन की बोगियों के अंदर और बाहर अपने हिसाब से अपना प्रचार करने को स्वतंत्र होगी। स्टेशनों के राइट्स बड़े कॉरपोरेट घरानों को दिए जाएंगे।

भारतीय रेल बिना किराया या माल भाड़ा बढ़ाए करीब 2 हजार करोड़ रुपए साला अाय बढ़ाने की सोच रहा है। रेलवे पिछले साल चार ट्रेनों के बाहर विज्ञापन के अधिकार एक कंपनी को दिए थे, इससे रेलवे को प्रतिवर्ष 8 करोड़ रुपए सालाना की आय होगी।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement