5 हजार मील दूर से तैरकर अपनी जान बचाने वाले दोस्त से मिलने आता है पेंग्विन

Updated on 3 Jun, 2017 at 6:06 pm

Advertisement

यह सच्ची घटना ब्राजील की है। एक पेंग्विन प्रतिवर्ष अपने जान बचाने वाले दोस्त से मिलने आता है, वह भी पांच हजार मील समुद्र की दूरी तय कर। जी हां, इस पेंग्विन का नाम है डिंडिम। और वह मिलने आता है जोआउ परेरा डिसूजा नामक एक व्यक्ति को।

1

घटना है वर्ष 2011 की। ब्राजील के रियो डि जेनेरियो के बाहर एक गांव में 71 साल के जोआउ परेरा डिसूजा को चट्टानों के बीच एक छोटा सा पेंग्विन दिखा। पेंग्विन भूखा था और तेल में सना हुआ था।

2

डिसूजा उसे अपने घर ले आए और उसकी देखभाल की। उसे रोज समय पर मछलियों का भोजन दिया। उन्होंने उस साउथ अमेरिकी मैजलैनिक पेंग्विन का नाम रखा- डिंडिम।

यह पेंग्विन करीब 11 महीने तक डिसूजा के साथ रहा। उसके नए पंख आ गए और जब वह स्वस्थ हो गया तो एक दिन वह खुद गायब हो गया। तब डिसूजा ने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि डिंडिम को वह दोबारा देख पाएंगे।

4


Advertisement

लेकिन कुछ ही महीने बाद डिंडिम वापस वहीं आ गया और डिसूजा को देखते ही पहचान गया। उसके बाद वह उसे अपने घर लेकर गए।

पिछले पांच सालों से यह पेंग्विन 8 महीने डिसूजा के पास रहता है। माना जाता है कि बाकी के चार महीने वह अर्जेन्टीना और चीली के समुद्री किनारों में प्रजनन करता है।

5



एक टीवी चैनल से बातचीत करते हुए डिसूजा ने कहाः

“मैं इस पेंग्विन को अपने बच्चे की तरह मानता हूं। उसे यहां कोई छू नहीं सकता। वह मेरे गोद में होता है। मैं ही उसे नहलाता हूं और खाना खिलाता हूं।”

6

मशहूर जीव वैज्ञानिक प्रोफेसर क्राजेव्स्की का कहना है कि पेंग्विन को लगता है कि जोआउ उसके घर के सदस्य हैं और पेंग्विन हैं। यह तभी संभव है।

साभारः metro


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement