Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

सिर्फ 10 सेकेंड में कैंसर का पता लगाएगा यह ‘पेन’!

Published on 8 September, 2017 at 7:32 pm By

कैंसर एक ऐसी बीमारी है जो कब किसको हो जाए, कहा नहीं जा सकता। यह बेहद खौफनाक है। कैंसर की खास बात यह है कि अगर शुरुआती दौर में इसके बारे में पता चल जाए तो मरीज बच सकता है। लिहाजा एक ऐसा आविष्कार सामने आया है जो इसके लक्षणों को आसानी से पता कर लेगा। जी हां! एक छोटा-सा पेन महज़ 10 सेकेंड में कैंसर के लक्षणों को पहचान सकता है।


Advertisement

इस डिवाइस को अमेरिका के टैक्सस यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने विकसित किया है। इसके आविष्कार के कैंसर की पहचान और उपचार तेजी से किया जा सकेगा।

साइंस ट्रांस्लेशनल मेडिसिन की रिपोर्ट के मुताबिक़, ये डिवाइस एक्युरेट रिजल्ट देता है। इसकी मदद से 96 फीसद टेस्ट सही निकलता है। इस पेन को कैंसर संभावित जगह पर रखा जाता है, फिर पेन से पानी की एक छोटी-सी बूंद निकलती है। पेन पानी की बूंद के माध्यम से जीवित कोशिकाओं के भीतर मौजूद रसायन को सोख लेता है। इस पेन में लगा स्पेट्रोमीटर प्रत्येक सेकेंड में हज़ारों रसायनों का द्रव्यमान माप सकता है। पेन की मदद से एक प्रकार का रसायनिक फिंगरप्रिंट तैयार हो जाता है। इससे डॉक्टर आसानी से पहचान पाते हैं कि टिश्यू में कैंसर है या नहीं।



टैक्सस यूनिवर्सिटी में रसायन विज्ञान की असिस्टेंट प्रोफेसर लिविया ने बतायाः

“कैंसर टिश्यू की पहचान करना डॉक्टर के लिए खासा चुनौतीपूर्ण होता है। यह डिवाइस बड़ी ही आसानी से कैंसर टिश्यू की पहचान कर लेता है, इसे इस्तेमाल करना भी बहुत आसान है।”

कैंसर की पहचान को लेकर इस डिवाइस पर और काम होने हैं। अभी तक 253 सैम्पल पर इसका परीक्षण किया गया है। अभी इसके माध्यम से 1.5 मिलिमीटर तक छोटा टिश्यू पहचाना जा सकता है। शोधार्थियों की मानें तो वो पेन को और ज्यादा बेहतर बनाने की कोशिश में हैं, जिससे 0.6 मिलिमीटर तक छोटे टिश्यू की पहचान की जा सके।


Advertisement

यह पेन बेहद सस्ता है, लेकिन इसमें लगा स्पेक्ट्रोमीटर काफी महंगा और भारी है। डॉ. एबरलिन के अनुसार, ये डिवाइस तभी सफल हो सकता है, जब स्पेक्ट्रोमीटर सस्ता और हल्का होगा। इस दिशा में जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। हालांकि, इससे पहले भी कैंसर के इलाज से जुड़े उपकरण बनाए गए हैं। लंदन के इम्पीरियल कॉलेज में एक ऐसा चाकू विकसित किया गया जिससे कैंसर की पहचान की जा सकती है। साथ ही हावर्ड यूनिवर्सिटी की टीम ब्रेन कैंसर को लेज़र तकनीक के प्रयोग से ठीक करने पर काम कर रही है।

Advertisement

नई कहानियां

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!


जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका

जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका


प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें


ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं

ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं


Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं

Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें Health

नेट पर पॉप्युलर