पाकिस्तान के इस मंदिर में स्थापित है 17 लाख साल पुरानी हनुमान की मूर्ति, त्रेतायुग से है संबंध

author image
9:01 pm 8 Jun, 2017

Advertisement

कभी एक ही सरजमीं के रहे भारत-पाकिस्तान के बीच अब भले ही शरहद की दीवार हो, लेकिन कई लाखों साल पुराना इतिहास मिटता नहीं है। इसी इतिहास से जुड़ा है पाकिस्तान के कराची शहर स्थित पंचमुखी हनुमान मंदिर।

इस हनुमान मंदिर का इतिहास बहुत ही पुराना है। कहा जाता है कि इस मंदिर की पंचमुखी हनुमान मूर्ति 17 लाख साल पुरानी है, जिसका संबंध त्रेतायुग से है।

कहा जाता है कि पंचमुखी हनुमान जी की यह मूर्ति जमीन के अंदर से प्रकट हुई थी। लोगों की ऐसी धारणा है कि आज जिस जगह पर यह मंदिर स्थापित है, उस जगह से जब एक तपस्वी ने 11 मुट्ठी मिटटी हटाई तो हनुमान की पंचमुखी मूर्ति प्राप्त हुई। इसी कारण माना जाता है कि इस मंदिर की 11 परिक्रमाएं करने पर भक्तों की मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

इस मंदिर का निर्माण 18वीं शताब्दी में हुआ था, जिसका 1882 में पुनर्निर्माण किया गया।

इस मंदिर में हनुमान जी के अद्भूत स्वरुप के दर्शन के लिए भक्तों का जमावड़ा लगा रहता है। यहां केवल हिन्दू धर्म के ही नहीं, बल्कि अन्य धर्मों के लोग भी दर्शन के लिए आते हैं।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement