अधिकतर पाकिस्तानियों का मानना है कि उनके देश में रेप की घटनाओं के लिए बॉलीवुड जिम्मेदार है

Updated on 3 Sep, 2018 at 6:37 pm

Advertisement

शायद ही ऐसा कोई दिन जाता हो जब महिलाओं पर अत्याचार की खबरें पढ़ने को नहीं मिलती हो। शायद ही ऐसा कोई दिन जाता है जब महिलाओं को प्रताड़ना न झेलनी पड़ती हो। देश के किसी न किसी हिस्से में इस तरह की घटनाएं होती रहती हैं। अलग-अलग घटनाएं साबित करती हैं कि महिला व बच्चों की सुरक्षा के मामले में अभी बहुत कुछ किए जाने की जरूरत है। यहां तक कि दुनिया के अलग-अलग देश भी इससे अछूते नहीं हैं।

हाल ही में पाकिस्तान की एक घटना सुर्खियों में है। यहां के कसूर इलाके में महज सात साल उम्र की जैनब के साथ रेप और उसकी हत्या से पूरे देश में क्षोभ का माहौल है। पूरे पाकिस्तान में इस पर चर्चा हो रही है। साथ ही अलग-अलग जगह प्रदर्शन हो रहे हैं।

जैनब की दर्दनाक मौत के बहाने पाकिस्तान में एक बड़ी बहस छिड़ गई है। अधिकतर पाकिस्तानियों का मानना है कि उनके देश में बढ़ रही अश्लीलता व रेप की घटनाओं के लिए भारत की हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री यानी कि बॉलीवुड सीधे तौर पर जिम्मेदार है। पाकिस्तानी मानते हैं कि इस्लामिक समाज पर बॉलीवुड का बड़ा प्रभाव पड़ा है। इसी क्रम में पाकिस्तानी सोशल मीडिया पर #StopVulgarityOnMedia ट्रेन्ड भी चल पड़ा है।

बहस छिड़ी है कि क्या मीडिया में अश्लीलता समाज के पतन का कारण बन रही है?

पाकिस्तान के स्वर्ण युग को नजर लग गई।

पाकिस्तान की महिलाएं सन्नी लियोनी नहीं हैं।

बेशर्म।

यह पाकिस्तान की परंपरा नहीं है।

सुबह के शोज बंद होने चाहिएं।

अगर अश्लीलता नहीं रुकी तो फिर जैनब सरीखी अन्य घटनाएं होंगी।

अश्लीलता खत्म तो फिर समाज से अपराध का भी खात्मा।

बॉलीवुड की अश्लीलता रेप का कारण।

भारतीय चैनलों के कंटेंट को बंद करो।

भारत शत्रु देश है।

बॉलीवुड के सभी विज्ञापन बंद होने चाहिएं।

इतनी नफरत कहां से लाते हो भाई।

यह तो हद हो गई।

भारत के कंटेंट पर पाबंदी की मांग।

हमारा यह कहना है कि रेप की घटनाएं वैश्विक समाज के लिए बड़ी समस्या का कारण है। इसके लिए सिर्फ बॉलीवुड को दोषी ठहराने से समस्या का समाधान नहीं होगा।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement