भारतीय लोकतंत्र के मुरीद हुए पाक आर्मी चीफ, कहा- सफल लोकतंत्र क्या होता है भारत से सीखना चाहिए

author image
Updated on 16 Feb, 2017 at 6:28 pm

Advertisement

पाकिस्‍तानी सेना जो भारत और भारतीय सेना के खिलाफ षडयंत्र में लगी रहती है, जिसने हमेशा से भारत की दोस्ती के हाथ के बदले सिर्फ पीठ पर छुरा घोंपा है, आज वही सेना भारतीय लोकतंत्र की तारीफ कर रही है। पाकिस्तान आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा ने अपने अफसरों को भारत की मिसाल देते हुए एक बड़ा बयान दिया है।

सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों को एक सलाह देते हुए कहा है कि सरकार चलाना सेना का काम नहीं है।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी सेना के अधिकारियों को भारतीय लोकतंत्र से सीख लेनी चाहिए। यह जरूर जानना चाहिए कि भारत कैसे अपनी सेना को राजनीति से दूर रखने में कामयाब रहा है। उन्होंने अपने अधिकारियों को “आर्मी एंड नेशन” किताब पढ़ने की सलाह दी है।

इस किताब में बताया गया है कि कैसे भारतीय सेना राजनीति से दूर रहती है और अपना काम करती है। 2015 में आई इस किताब में भारत में लोकतांत्रिक प्रक्रिया के सफल होने का जिक्र भी किया गया है।



army

आपको बता दें कि पाकिस्तान का इतिहास गवाह है कि पाकिस्तान की सेना  सरकार के कामकाज में दखलंदाजी करती रही है। पाकिस्तान में इसी वजह से कई तख्तापलट भी हो चुके हैं।

पाकिस्तान के अंग्रेजी समाचार पत्र ‘द नेशन’ के मुताबिक, जनरल बाजवा ने कहा कि सरकार चलाने की कोशिश करना फौज का काम नहीं है। फौज को संविधान में परिभाषित अपनी भूमिका तक सीमित रहना चाहिए।

बाजवा ने अपने अधिकारियों से कहा कि वे आजादी के बाद असैनिक सरकार के साथ भारतीय सेना के रिश्तों के बारे में येल यूनिवर्सिटी के राजनीति शास्त्र एवं अंतरराष्ट्रीय संबंधों के प्रोफेसर स्टीवन आई विल्किंसन की लिखी किताब आर्मी ऐंड नेशन (सेना एवं राष्ट्र) पढ़ें। बाजवा ने अपने अधिकारियों को साफ-साफ कहा कि पाकिस्तान में सेना और सरकार के बीच किसी तरह का कोई मुकाबला नहीं होना चाहिए।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement