फिल्म का नाम ‘पद्मावती’ से हुआ ‘पद्मावत’, ट्विटर पर हो रही सेंसर बोर्ड की जमकर खिंचाई

author image
Updated on 31 Dec, 2017 at 4:38 pm

Advertisement

संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावती’ को सेंसर बोर्ड ने कुछ बदलावों के साथ यू/ए प्रमाणपत्र देने का फैसला किया है।

 

 

खबरें थीं कि सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (CBFC- सेंसर बोर्ड) ने फिल्म में 26 कट करने के लिए कहा है, इन खबरों को खारिज करते हुए सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी ने कहा कि फिल्म में कट लगाने का सुझाव नहीं दिया गया है,  बल्कि पांच बदलाव सुझाए गए हैं।


Advertisement

 

इन सुझावों में फिल्म का नाम ‘पद्मावती’ से ‘पद्मावत’ किए जाने का निर्देश दिया गया है।

 

 

वहीं, राजपूत करणी सेना ने अभी भी अपने तेवर नहीं बदले हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि अंडरवर्ल्ड के दबाव में पद्मावती कि रिलीज़ को मंजूरी दी जा रही है। करणी सेना ने धमकी दी है कि अगर किसी भी सिनेमाघर में फिल्म लगी तो वहां तोड़फोड़ की जाएगी।

 

 

 

गौतलब है कि 28 दिसंबर को सेंसर बोर्ड ने मीटिंग की थी। फिल्म में जरूरी बदलाव करने के लिए एक्सपर्ट्स का एक पैनल गठित किया गया था। पहले फिल्म को एक दिसम्बर को रिलीज़ किया जाना था, लेकिन विवाद इतना बड़ा कि इसकी रिलीज़ को रोक दिया गया।

 

 

अब जैसा कि सेंसर बोर्ड ने फिल्म का नाम बदलकर ‘पद्मावत’ करने का निर्देश दिया है और अन्य बदलाव करने को कहे है। ऐसे में  लोग ट्वीटर पर जमकर सेंसर बोर्ड की क्लास लगा रहे हैं। नाम ‘पद्मावती’ से ‘पद्मावत’ किए जाने पर लोगों के रिएक्शन कुछ ऐसे हैं:

 

 

 

ये होंगे वो पांच बदलाव:

 

भंसाली ने कमेटी को बताया था कि फिल्म मुहम्मद जायसी के पद्मावत पर आधारित है। लिहाजा फिल्म का नाम ‘पद्मावती’ से बदलकर ‘पद्मावत’ करना होगा।

विरोध करने वालों का कहना था कि राजपूत राजघरानों में रानियां घूमर नहीं किया करती थीं। ऐसे में फिल्म के घूमर गाने में कुछ बदलाव किए जाने को भी कहा गया है।

फिल्म में डिस्क्लेमर देना होगा कि फिल्म किसी भी तरह से ऐतिहासिक तथ्यों के सही होने का दावा नहीं करती है।

ऐतिहासिक जगहों के गलत या भ्रामक संदर्भों को बदलना होगा।

फिल्म के डिस्क्लेमर में यह स्पष्ट करना होगा कि यह फिल्म जौहर या सती प्रथा का महिमा मंडन नहीं करती है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement