मां भद्रकाली की 1 हजार साल पुरानी प्रतिमा नदी के गर्भ से अवतरित हुई

Updated on 27 Sep, 2017 at 3:01 pm

Advertisement

सनातन धर्म हजारों साल पुराना है और इसकी जड़ें दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में फैली हुई हैं। उत्खनन के दौरान इसके सबूत भी हाल लगते रहे हैं। अब मां भद्रकाली की एक प्रतिमा मिली है, जो करीब 1 हजार पुरानी है। इस रिपोर्ट के मुताबिक, यह प्रतिमा तमिलनाडु में एक नदी के गर्भ से खुदाई के दौरान मिली है।

मां भद्रकाली की प्रतिमा का सटीक काल अब तक नहीं पता चल सका है और विशेषज्ञ कार्बन डेटिंग कर ही इसका पता लगा सकेंगे।

मां भद्रकाली एक पत्थर पर विराजमान हैं। उन्होंने अपना एक पांव असुर पर रखा हुआ है और उसका दूसा पांव आगे की तरफ बढ़ रहा है। उनके एक हथेली में एक खोपड़ी और सिर पर मुकुट विराजमान है। वहीं, उन्होंने अपने दाहिने हाथ में त्रिशूल धारण कर रखा है।


Advertisement

पुरातत्वविद नारायणमूर्ति कहते हैंः

“चेहरे पर तेज और गुस्से की मुद्रा को मूर्तिकार ने काफी सुंदर ढ़ंग से चित्रित किया हुआ है। मूर्ति बहुत ही स्वाभाविक दिखती है।”

मां भ्रदकाली के अन्य हाथों में ड्रम, ढाल और घंटियां सुशोभित हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement