उत्तर कोरिया के परमाणु परीक्षण से पहाड़ धंसने का खतरा, आ सकती है तबाही

Updated on 8 Sep, 2017 at 7:24 pm

Advertisement

उत्तर कोरिया पिछले काफी समय से अपने परमाणु परीक्षण को लेकर सुर्खियों में बना हुआ है। अभी हाल ही में उसने अब तक का सबसे बड़ा परमाणु परीक्षण कया है। अमेरिका सहित दुनिया के कई प्रमुख देशों ने इस पर चिंता जाहिर की है. इतना ही नहीं वैज्ञानिकों को चिंता सता रही है कि इससे वातावरण मे रेडिएशन का खतरा धीरे-धीरे बढ़ेगा। और तो और जिस पहाड़ का इस्तमाल परमाणु परीक्षणों के लिए किया जा रहा है उसके भी धंसने का डर है।

चीन स्थित न्यूक्लियर सोसायटी के पूर्व अध्यक्ष वांग नेयान ने इस बारे में चेतावनी जारी की है।

उनका मानना है कि जिस पहाड़ का इस्तेमाल परमाणु परीक्षण के लिए किया जा रहा है,  यदि इसी तरह चलता रहा तो वह धंस सकता है। उत्तर कोरिया हमेशा पुंगे-री पहाड़ी में बनी एक जगह का इस्तेमाल परमाणु परीक्षणों के लिए करता है। यदि पहाड़ धंस गया तो बड़े पैमाने पर तबाही होगी।



युनिवर्सिटी ऑफ चाइना एंड टेक्नोलॉजी के शोधकर्ताओं ने यह पाया है कि उत्तर कोरिया द्वारा किए गए प्रत्येक परमाणु परीक्षण के बाद 6.3 की तीव्रता का भूकंप आता है। चीन के परमाणु कार्यक्रम के वरिष्ठ शोधकर्ता का कहना है कि यदि पहाड़ धंस जाता है तो इससे काफी बुरी चीजें सामने आ सकती हैं। इससे चीन सहित पूरे इलाके में खतरनाक विकिरण यानी रेडिएशन फैल सकता है।

बीते रविवार को उत्तर कोरिया ने जिस हाइड्रोजन बम का परीक्षण किया था। इसे दूसरे विश्व युद्ध के दौरान जापान के नागासाकी और हिरोशिमा शहरों पर गिराए गए बम से भी ढाई-तीन गुना अधिक ताकतवर बताया जा रहा है। इस परीक्षण से दक्षिण कोरिया से लेकर चीन और रूस तक सब सकते में आ गए हैं।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement